फार्म से फूड तक यानी खेती की उपज से खानेपीने की चीजें बनाने तक का दायरा बहुत बड़ा है. नई तकनीकों से इस में दिनोंदिन इजाफा हो रहा है. खेती से ज्यादा कमाई करने के लिए अब जरूरी है कि किसान वक्त की नब्ज पहचानें, खेती के सहायक उद्योगधंधों में उतरें व अपनी इकाई लगाएं. आजकल भागदौड़ से भरी जिंदगी में वक्त की कमी का असर खानपान व रसोई पर भी पड़ा है. मर्दों के अलावा कामकाजी औरतों की गिनती तेजी से बढ़ने के कारण पुराने तरीकों से खाना पकाने का चलन घटा है. उन के पास इतना वक्त नहीं बचता कि वे चक्की, चकला बेलन, इमामदस्ता व सिलबट्टे का झंझट पालें. लिहाजा अब खाना बनाने का नहीं खाने के लिए तैयार चीजें खरीदने का जमाना है. वक्त बचाने की गरज से ज्यादातर लोग खाने लायक व जल्दी तैयार होने वाली चीजें खरीदना पसंद करते हैं. लिहाजा अपनी जमीन पर खेती की उपज से खाने की नई उम्दा चीजें बनाई जा सकती हैं. खाने का सामान बनाने का तैयार मिक्स बनाने की इकाई लगा कर खासी कमाई की जा सकती है, लेकिन इस केलिए पूरी तैयारी, ट्रेनिंग, पैकिंग व मार्केटिंग वगैरह की जानकारी जरूरी है.

Digital Plans
Print + Digital Plans
COMMENT