लेखक-डा. राघवेंद्र विक्रम सिंह, डा. स्मिता सिंह, डा.एसएन सिंह

तिलहनी फसलों में तिल एक प्रमुख फसल है, जिसे कम लागत और सीमित संसाधनों में उगा कर अधिक मुनाफा कमाया जा सकता है. तिल का क्षेत्रपल धीरेधीरे बढ़ रहा है. डायरैक्टोरेट औफ इकोनौमिक्स और सांख्यिकी, भारत सरकार की एक रिपोर्ट के अनुसार, देश में साल 2019 में तिल का कुल क्षेत्रफल 1.3 मिलियन हेक्टेयर और कुल उत्पादन 3.99 लाख मिलियन टन रिकौर्ड किया गया, जबकि साल 2018 में कुल उत्पादन 1.78 लाख मिलियन टन रिकौर्ड किया गया था. देश में उत्तर प्रदेश, गुजरात, राजस्थान और मध्य प्रदेश प्रमुख तिल उत्पादक राज्य हैं. साल 2019 में उत्तर प्रदेश में तिल का कुल क्षेत्रफल 4.17 लाख हेक्टेयर, कुल उत्पादन 99 हजार मिलियन टन और कुल उत्पादकता 239 किलोग्राम प्रति हेक्टेयर रिकौर्ड की गई.

एक रिपोर्ट के अनुसार, तिल के क्षेत्रफल और उत्पादन की दृष्टि से उत्तर प्रदेश के 10 जिलों (झांसी, हमीरपुर, महोबा, जालौन, बांदा, हरदोई, उन्नाव, फतेहपुर, सीतापुर और शाहजहांपुर) में झांसी अग्रणी रहा है. कृषि आय को बढ़ाने में तिल एक अच्छा विकल्प है, जिसे शुद्ध और मिलवा पद्धति से खेती कर के अपनी आय को दोगुना किया जा सकता है. किंतु अधिक आय उन्नत विधि के अनुसार तिल की खेती करने से ही प्राप्त की जा सकती है. तिल की उन्नत खेती तिल की फसल से अधिक उपज प्राप्त करने में भूमि का चुनाव, खेत की तैयारी, खाद और उर्वरक की संतुलित मात्रा, सही समय पर रोगों और कीटों की पहचान, उन का निदान इत्यादि विधियों का महत्त्वपूर्ण योगदान है.

ये भी पढ़ें- कीवी एक जरूरी फल

साथ ही मिलेगी ये खास सौगात

  • 5000 से ज्यादा फैमिली और रोमांस की कहानियां
  • 2000 से ज्यादा क्राइम स्टोरीज
  • 300 से ज्यादा ऑडियो स्टोरीज
  • 50 से ज्यादा नई कहानियां हर महीने
  • एक्सेस ऑफ ई-मैगजीन
  • हेल्थ और ब्यूटी से जुड़ी सभी लेटेस्ट अपडेट
  • समाज और राजनीति से जुड़ी समसामयिक खबरें
Tags:
COMMENT