गांव हो या शहर पढ़ाई लिखाई के बावजूद कई महिलाएं किसी प्रोफैशनल कोर्स के अभाव में जिंदगी भर चौके चूल्हे तक ही सीमित रह जाती हैं. जिस से उन्हें तमाम तरह की दिक्कतों से जूझना पड़ता है. इन्हीं मुसीबतों की एक कड़ी रोजगार से जुड़ी हुई है. जिस का प्रमुख कारण रोजगार के अवसरों पर पुरुषों का वर्चस्व भी रहा है.

COMMENT