पापा के साथ हम सभी को देख कर कमल की तरह ही वह खिल जाती है. यश के यहां जाने पर डिनर कर के ही आने देती है. हालांकि, उन की ममता में मम्मी का दुलार उभर आता है.
अनलिमिटेड कहानियां आर्टिकल पढ़ने के लिए आज ही सब्सक्राइब करेंSubscribe Now