पश्चिमी बंगाल ही नहीं, तमिलनाडू और करेल में भी भारतीय जनता पार्टी की हार से यह साबित हो गया है कि भारतीय जनता पार्टी का ऊंचनीच और भेदभाव वाला खेल कम से कम कुछ राज्यों में तो नहीं चलेगा. पश्चिमी बंगाल जिस तरह से छोटी सी, अकेली सी, कमजोर सी ममता बैनर्जी भारतीय जनता पार्टी के खातेपीते दिखते लोगों की धन्ना सेठों की बरात का मुकाबला किया यह काबिले तारीफ था. 214 सीटें जीत कर उस ने भाजपा का इस बार 200 से घर का सपना धराशाई कर डाला.

Tags:
COMMENT