न्यायाधीशों पर जनता का आज भी अथाह विश्वास है. अदालतों के गलियारों में जूते घिसने, अपनी वर्षों की कमाई और जमीन व जायदाद वकीलों व पेशकारों को देने के बावजूद लोगों को भरोसा है कि जब भी न्याय मिलेगा, सही मिलेगा. पहली अदालत में नहीं मिलेगा तो दूसरी अदालत में मिलेगा ही. अदालतों के गलियारों में न्यायाधीशों की बेईमानियों के किस्से सुनने को मिलते हैं पर चूंकि कभी कोई पक्का प्रमाण नहीं मिला, इसलिए समझा जाता है कि वे विशिष्ट चरित्र के लोग हैं.

इस विशिष्टता पर लगातार 2 धब्बे लगे हैं. पूर्व जस्टिस अशोक कुमार गांगुली और जस्टिस स्वतंत्र कुमार पर उन के साथ काम कर रहीं कानूनी प्रशिक्षुओं के साथ यौन दुर्व्यवहार के मामले सामने आए हैं. न्यायाधीश गांगुली के मामले में शिकायत- कर्ता युवती ने जो बातें कही हैं वे कमोबेश वैसी ही हैं जैसी तहलका पत्रिका के संपादक तरुण तेजपाल के विरुद्ध उन की सहायिका ने कही थीं. यद्यपि कानूनी प्रशिक्षु के मामले में सर्वोच्च न्यायालय की एक कमेटी ने शिकायत को सही पाया है फिर भी न्यायाधीश गांगुली केवल पश्चिम बंगाल मानव अधिकार आयोग से त्यागपत्र दे कर बच गए जबकि तरुण तेजपाल को लगातार जेल में बंद कर रखा गया है.

न्यायाधीश स्वतंत्र कुमार भी अभी तक किसी पुलिस प्रक्रिया से बचे हैं. पर इन दोनों मामलों ने साफ कर दिया है कि न्यायाधीश भी उसी मिट्टी के बने हैं जिस मिट्टी से देश के अन्य अधिकारी, मंत्री या असरदार लोग बने हैं. जो लोग अपने से कम उम्र की लड़कियों को छेड़ने से बाज नहीं आते उन के हाथों में देश का भविष्य वैसा ही है जैसा नेताओं के हाथों में, जिन पर घोटालों के आरोप लगते रहते हैं.

आगे की कहानी पढ़ने के लिए सब्सक्राइब करें

सरिता डिजिटल

डिजिटल प्लान

USD4USD2
1 महीना (डिजिटल)
  • 5000 से ज्यादा फैमिली और रोमांस की कहानियां
  • 2000 से ज्यादा क्राइम स्टोरीज
  • 300 से ज्यादा ऑडियो स्टोरीज
  • 50 से ज्यादा नई कहानियां हर महीने
  • एक्सेस ऑफ ई-मैगजीन
  • हेल्थ और ब्यूटी से जुड़ी सभी लेटेस्ट अपडेट
  • समाज और राजनीति से जुड़ी समसामयिक खबरें
सब्सक्राइब करें

डिजिटल प्लान

USD48USD10
12 महीने (डिजिटल)
  • 5000 से ज्यादा फैमिली और रोमांस की कहानियां
  • 2000 से ज्यादा क्राइम स्टोरीज
  • 300 से ज्यादा ऑडियो स्टोरीज
  • 50 से ज्यादा नई कहानियां हर महीने
  • एक्सेस ऑफ ई-मैगजीन
  • हेल्थ और ब्यूटी से जुड़ी सभी लेटेस्ट अपडेट
  • समाज और राजनीति से जुड़ी समसामयिक खबरें
सब्सक्राइब करें

प्रिंट + डिजिटल प्लान

USD100USD79
12 महीने (24 प्रिंट मैगजीन+डिजिटल)
  • 5000 से ज्यादा फैमिली और रोमांस की कहानियां
  • 2000 से ज्यादा क्राइम स्टोरीज
  • 300 से ज्यादा ऑडियो स्टोरीज
  • 50 से ज्यादा नई कहानियां हर महीने
  • एक्सेस ऑफ ई-मैगजीन
  • हेल्थ और ब्यूटी से जुड़ी सभी लेटेस्ट अपडेट
  • समाज और राजनीति से जुड़ी समसामयिक खबरें
सब्सक्राइब करें
और कहानियां पढ़ने के लिए क्लिक करें...