नाजायज संबंध बनाए रखने के लिए चाहे कितनी भी सतर्कता बरती जाए, एक न एक दिन उन की पोल खुल ही जाती है. इस के बाद भी इन संबंधों को जारी रखने पर एक अपराध जन्म ले लेता है. काश! इस बात को ममता और संजीव जान लेते तो...

उस रोज बेचू अपने निर्धारित समय से पहले ही घर के लिए निकल पड़ा था. अभी वह अपनी गली के नुक्कड़ पर

Tags:
COMMENT