सौजन्या- सत्यकथा

उत्तर प्रदेश के फतेहपुर शहर का एक मोहल्ला है मिश्रामऊ. इसी मोहल्ले में राजेश साहू अपने परिवार के साथ रहता था. उस के परिवार में पत्नी के अलावा 2 बेटे और एक बेटी सुलेखा थी. राजेश घी का कारोबार करता था. वह फतेहपुर शहर के आसपास के गांवगांव जा कर लोगों के यहां से घी खरीदता और फतेहपुर शहर में बेचता. इस से उसे जो फायदा होता, उसी से उस के परिवार की गुजरबसर होती थी.राजेश साहू की बेटी सुलेखा सुंदर होने के साथसाथ थोड़ी चंचल भी थी. इसलिए सयानी होने पर मोहल्ले के कई युवक उस पर डोरे डालने की कोशिश करने लगे. यह भनक राजेश को लगी तो उसे चिंता होने लगी. तब उस ने बेटी के लिए वर की तलाश शुरू कर दी. थोड़ी भागदौड़ के बाद उसे सदर कोतवाली के मोहल्ला बक्सपुर राधा नगर में एक लड़का मिल गया.

लड़के का नाम राजू प्रसाद साहू था. उस के पिता भगवानदीन साहू के पास 5 बीघा उपजाऊ भूमि थी. भगवानदीन के 2 बेटे रामबाबू तथा राजू प्रसाद थे. रामबाबू का विवाह हो चुका था. वह परिवार सहित अलग रहता था. राजू पिता के साथ खेतीकिसानी करता था.बातचीत शुरू हुई तो राजू और सुलेखा का रिश्ता पक्का हो गया. फिर जल्द ही दोनों की शादी हो गई.

ये भी पढ़ें- Crime Story : वासना की आग

राजू सुंदर पत्नी पा कर खुश था, जबकि सुलेखा अपने सांवले व दुबलेपतले पति से खुश नहीं थी. शादी से पहले उस के मन में पति की जो छवि थी, राजू उस में कहीं भी फिट नहीं बैठता था. लेकिन अब विवाह हो गया था, इसलिए मजबूरी में उस के साथ तो रहना ही था. शादी के 3 साल बाद सुलेखा एक बेटी अर्पिता की मां बन गई थी.अर्पिता के जन्म के बाद राजू ने पत्नी की भावनाओं की उपेक्षा करनी शुरू कर दी. जबकि बेटी जनने के बाद सुलेखा का रूप और निखर आया था और वह हर रात पति का साथ चाहती थी. राजू थकाहारा शाम को लौटता और खाना खा कर सो जाता.

साथ ही मिलेगी ये खास सौगात

  • 5000 से ज्यादा फैमिली और रोमांस की कहानियां
  • 2000 से ज्यादा क्राइम स्टोरीज
  • 300 से ज्यादा ऑडियो स्टोरीज
  • 50 से ज्यादा नई कहानियां हर महीने
  • एक्सेस ऑफ ई-मैगजीन
  • हेल्थ और ब्यूटी से जुड़ी सभी लेटेस्ट अपडेट
  • समाज और राजनीति से जुड़ी समसामयिक खबरें
Tags:
COMMENT