कभी चंबल के बीहड़ों में फूलन देवी, सीमा परिहार जैसी दस्यु सुंदरियों सहित कुछ गिनती की महिलाएं ही अपराध की राह पर कदम रखने वालों में थीं. लेकिन कुछ सालों का आंकड़ा देखा जाए तो यह साफ होता है कि आपराधिक क्षेत्र में महिलाओं की शिरकत बढ़ी है. अपराध करने के मामले में चाहे वह किसी माफिया गिरोह की बात हो या खुले तौर पर हफ्तावसूली, पौकेटमारी आदि करने का मामला हो, किसी न किसी महिला का नाम हर क्षेत्र में है.

Digital Plans
Print + Digital Plans
Tags:
COMMENT