लेखक-कपूर चंद

रंजिश उस विषबेल की तरह होती है, जो बड़े पेड़ों से भी लिपट जाए तो धीरेधीरे उस के वजूद को लीलने लगती है. दिल्ली पुलिस के सिपाही मनोज और फौजी रणबीर ने भी अपने वजूद में ऐसी ही विषबेल पाल रखी थी, जो दोनों...    4मई, 2020 की बात है. मनोज की आंखें खुलीं तो उस ने पास रखे मोबाइल फोन पर नजर डाली. उस समय सुबह के साढ़े 6

Tags:
COMMENT