सन 1974 में राजेश खन्ना मुमताज अभिनीत मनमोहन देसाई के निर्देशन में एक फिल्म आई थी ‘रोटी’. इस सुपरहिट फिल्म में राजेश खन्ना द्वारा निभाया गया पात्र मात्र एक रोटी की खातिर अपराधी बन गया था. इस रोटी फिल्म की तरह इस कहानी में भी एक नौकर रोटी के लिए रोजी नाम की अपनी मालकिन का कत्ल कर बैठा. इत्तफाक यह भी है कि रोटी फिल्म के नायक राजेश खन्ना की तरह इस नौकर का नाम भी राजेश ही है. प्रस्तुत कहानी पढ़ने के बाद पाठक यह तय करें कि फिल्म ‘रोटी’ या रोजी हत्याकांड में क्या ऐसा करना जरूरी था. क्या इस समस्या का कोई दूसरा समाधान या विकल्प नहीं हो सकता था?

राजेश उर्फ विलट पासवान गांव बथनी राम पट्टी, जिला मधुबनी, बिहार का रहने वाला था और पिछले लगभग डेढ़ साल से हरियाणा के जिला यमुनानगर के जगाधरी की न्यू जैन नगर कालोनी में रहने वाले राजिंदर सिक्का की कोठी पर काम कर रहा था.

राजिंदर सिक्का शहर के सब से बड़े उद्यमी और बालाजी स्टोन क्रेशर के मालिक थे. राजेश उस से पहले खिदराबाद स्थित आर.के. स्टोन क्रेशर में काम करता था.

ये भी पढ़ें- Crime Story: अपने ही परिवार की खूनी इंजीनियरिंग

वहां उसे कम तनख्वाह मिलती थी. इसलिए खिदराबाद से काम छोड़ कर वह राजिंदर सिक्का के यहां चला आया था. यहां उसे खानेपीने और रहने के अलावा 8 हजार रुपए मासिक वेतन मिलता था. राजिंदर सिक्का ने उसे अपनी कोठी के सामने वाले प्लौट में रहने  के लिए कमरा दे रखा था.

15 मई, 2019 की रात को राजेश को जल्दी सोना था. इस की वजह यह थी कि अगली सुबह यानी 16 तारीख को उसे जल्दी उठना था. क्योंकि 16 तारीख को राजिंदर सिक्का को पहले कचहरी और उस के बाद अपने क्रेशर पर जाना था. पिछले 20 दिनों से वह घर पर ही थे. वजह यह थी कि उन का औपरेशन हुआ था.

साथ ही मिलेगी ये खास सौगात

  • 5000 से ज्यादा फैमिली और रोमांस की कहानियां
  • 2000 से ज्यादा क्राइम स्टोरीज
  • 300 से ज्यादा ऑडियो स्टोरीज
  • 50 से ज्यादा नई कहानियां हर महीने
  • एक्सेस ऑफ ई-मैगजीन
  • हेल्थ और ब्यूटी से जुड़ी सभी लेटेस्ट अपडेट
  • समाज और राजनीति से जुड़ी समसामयिक खबरें
Tags:
COMMENT