सौजन्या- सत्यकथा

बीते 10 अक्तूबर की रात की बात है, रतलाम के औद्योगिक क्षेत्र के थाने की थानाप्रभारी डीएसपी (ट्रेनिंग) मणिक मणि कुमावत थाने में बैठी थीं. तभी रतलाम के इंद्रानगर क्षेत्र में रहने वाला बाबूलाल चौधरी थाने पहुंचा. वह काफी घबराया हुआ था. बाबूलाल ने थानाप्रभारी को बताया कि वह इप्का फैक्ट्री में ठेकेदारी का काम करता है. उस के परिवार में उस के अलावा उस की पत्नी, एक बेटा नीलेश और बेटी रेणुका है.

बाबूलाल ने बताया कि उस का बेटा नीलेश बीती रात से घर नहीं लौटा है. बाबूलाल ने अपने साले ईश्वर जाट के 21 वर्षीय बेटे बादल पर शक जताते हुए कहा कि बादल ही नीलेश को साथ ले गया है. थानाप्रभारी मणि कुमावत के पूछने पर बाबूलाल ने दिनभर का घटनाक्रम बता दिया. बाबूलाल के अनुसार उस का बेटा नीलेश रतलाम के आईटीआई से डिप्लोमा कर रहा था. वह सुबह 7 बजे घर से निकलता था और 3 बजे घर लौट आता था. जब वह 4 बजे तक नहीं लौटा तो उस की मां और बहन ने मोबाइल पर उस से संपर्क किया.

लेकिन नीलेश का फोन स्विच्ड औफ था. बादल का फोन भी स्विच्ड औफ था. जब बारबार मिलाने पर फोन बंद मिलता रहा तो मांबेटी को चिंता हुई. वे दोनों नीलेश का पता लगाने के लिए आईटीआई पहुंची. उन्होंने नीलेश के दोस्तों और साथ पढ़ने वालों से पूछताछ की तो उन्होंने बताया कि सुबह नीलेश का मौसेरा भाई बादल जाट आया था, वही नीलेश को साथ ले गया.

बाबूलाल ने बताया कि उस के दूसरे साले रमेश जाट का बेटा जितेंद्र रतलाम में रह कर कोचिंग क्लासेज चलाता था. संभावना थी कि नीलेश और बादल जितेंद्र के पास चले गए हों. संगीता और रेणुका ने जितेंद्र से बात की.

साथ ही मिलेगी ये खास सौगात

  • 5000 से ज्यादा फैमिली और रोमांस की कहानियां
  • 2000 से ज्यादा क्राइम स्टोरीज
  • 300 से ज्यादा ऑडियो स्टोरीज
  • 50 से ज्यादा नई कहानियां हर महीने
  • एक्सेस ऑफ ई-मैगजीन
  • हेल्थ और ब्यूटी से जुड़ी सभी लेटेस्ट अपडेट
  • समाज और राजनीति से जुड़ी समसामयिक खबरें
Tags:
COMMENT