कोरोना का कहर देश ही नहीं दुनिया को घेर चुका है. संयुक्त राष्ट्र संघ के महासचिव अंटोनिओ गुटर्स ने कहा है  कि द्वितीय महायुद्ध के बाद यह सबसे बड़ी आपदा विश्व के सामने है पर चाहे द्वितीय विश्व युद्ध में मृतकों की संख्या कहीं  ज्यादा थी, वह युद्ध न पूरे विश्व  झेलना पड़ा था न हर घर उससे प्रभावित हुआ था. आज सारा विश्व   लौकडाउन  का शिकार हो चुका है. अब न शहर बचे हैं, न कस्बे और न ही गांव। कोरोना आज घरघर में घुस गया है, उस घर में भी जहाँ कोई बीमार नहीं है.

Digital Plans
Print + Digital Plans
Tags:
COMMENT