क्रूर परंपरा

जून (द्वितीय) अंक में लेख ‘धर्म की क्रूर परंपरा औरतों का खतना’ पढ़ा. अभी तक पुरुषों का खतना सुना था पर औरतों का खतना भी होता है, जानकर अजीब लगा. निश्चय ही यह धर्म की कू्रर परंपरा है. इस से साबित होता है कि धर्म के नाम पर प्रकृति प्रदत्त शरीर पर भी तरहतरह के अंकुश लगाए जाते हैं.

हजारों साल पुरानी अवैज्ञानिक नसीहतों द्वारा जबरदस्ती समाज का रहनुमा बनने का मोह ही यह करवाता है. इसलिए खाप पंचायतों और काजी लोगों के फैसले अजीब होते हैं. पैसे ले कर यदि संसद में प्रश्न पूछे जा सकते हैं तो उन से फतवे क्यों नहीं जारी हो सकते हैं? सरिता, ऐसे आलेख छाप पर अपनी परंपरा बनाए हुए है, जो सराहनीय है.

माताचरण पासी, देहरादून (उत्तराखंड)

आगे की कहानी पढ़ने के लिए सब्सक्राइब करें

सरिता डिजिटल

डिजिटल प्लान

USD4USD2
1 महीना (डिजिटल)
  • 5000 से ज्यादा फैमिली और रोमांस की कहानियां
  • 2000 से ज्यादा क्राइम स्टोरीज
  • 300 से ज्यादा ऑडियो स्टोरीज
  • 50 से ज्यादा नई कहानियां हर महीने
  • एक्सेस ऑफ ई-मैगजीन
  • हेल्थ और ब्यूटी से जुड़ी सभी लेटेस्ट अपडेट
  • समाज और राजनीति से जुड़ी समसामयिक खबरें
सब्सक्राइब करें

डिजिटल प्लान

USD48USD10
12 महीने (डिजिटल)
  • 5000 से ज्यादा फैमिली और रोमांस की कहानियां
  • 2000 से ज्यादा क्राइम स्टोरीज
  • 300 से ज्यादा ऑडियो स्टोरीज
  • 50 से ज्यादा नई कहानियां हर महीने
  • एक्सेस ऑफ ई-मैगजीन
  • हेल्थ और ब्यूटी से जुड़ी सभी लेटेस्ट अपडेट
  • समाज और राजनीति से जुड़ी समसामयिक खबरें
सब्सक्राइब करें

प्रिंट + डिजिटल प्लान

USD100USD79
12 महीने (24 प्रिंट मैगजीन+डिजिटल)
  • 5000 से ज्यादा फैमिली और रोमांस की कहानियां
  • 2000 से ज्यादा क्राइम स्टोरीज
  • 300 से ज्यादा ऑडियो स्टोरीज
  • 50 से ज्यादा नई कहानियां हर महीने
  • एक्सेस ऑफ ई-मैगजीन
  • हेल्थ और ब्यूटी से जुड़ी सभी लेटेस्ट अपडेट
  • समाज और राजनीति से जुड़ी समसामयिक खबरें
सब्सक्राइब करें
और कहानियां पढ़ने के लिए क्लिक करें...