जंतरमंतर लाइव

आम आदमी पार्टी की 22 अप्रैल की दिल्ली के जंतरमंतर पर आयोजित रैली वाकई ऐतिहासिक थी. पीपली लाइव के केंद्रीय पात्र किसान नत्था को पीछे पछाड़ते किसान गजेंद्र सिंह ने ऐसे खुदकुशी कर ली मानो टहलने निकला हो. इस लाइव सुसाइड पर खूब बवाल मचा पर गजेंद्र के परिवार पर पैसों की बारिश हो गई. हमदर्दी तो इतनी मिली कि उस के परिजन पैसों के साथसाथ आश्रितों को नौकरी और गजेंद्र को शहीद मानने तक का दरजा मांगने लगे.यह दरअसल लालच और निकम्मेपन की हद थी जिस में संवेदनाओं की हत्या राजनेताओं से ज्यादा गजेंद्र के परिजनों ने की. उस की मौत पर जम कर सौदेबाजी हुई और तमगे तक मांगे गए. बुद्धिजीवी और बेवकूफी की ऐसी कद्र हमारे देश में ही होना मुमकिन है.

Digital Plans
Print + Digital Plans
Tags:
COMMENT