नोटबंदी के चलते जब देशभर के लोग बड़ी किफायत से पैसे खर्च कर रहे थे तब मामूली ऐक्ट्रैस से केंद्रीय मंत्री बन गईं स्मृति ईरानी एक मोची को 90 रुपए बख्शीश दे रही थीं. इस से यह साफ हुआ कि पैसों की मार जरूरतमंद लोगों पर ही पड़ी है, नेताओं, उद्योगपतियों और फिल्मस्टार्स को लाइन में नहीं लगना पड़ा. उन के पास जैसे जादू के जोर से नए और छुट्टे नोट आ गए थे.

COMMENT