नोटबंदी ने एक तरफ तो हर तरह के कारोबारी को परेशान कर रखा है. उसे खर्च के लिये बैंक में रखा अपना पैसा निकालने के लिये बैंक में लाइन लगने से लेकर बैंक कर्मियों की मनमानी से निपटना पड़ रहा है. इसके अलावा वह आयकर विभाग के भी निशाने पर है. पूरे देश का छोटे से लेकर बड़ा ऐसा कोई कारोबारी नहीं है जिसका शतप्रतिशत हिसाब साफ हो. आयकर विभाग का कानून ऐसा उलझाव वाला है जिसमें कुछ न कुछ कमी मिल ही जायेगी. आयकर विभाग के लिये ऐसे कारोबारी बेबस गाय की तरह हैं. इंसपेक्टर राज जिनको हलाल करने के लिये तैयार खड़ा है.

COMMENT