8 नवंबर, 2016 को जब प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने 500 व 1,000 रुपए के पुराने नोटों के अमान्य मुद्रा होने की घोषणा की, तो आम लोगों की पहली प्रतिक्रिया थी कि यह एक नादिरशाही फैसला है. एक ऐसा निर्णय, जो बिना किसी पूर्व तैयारी के लिए लिया गया है और जिस के दूरगामी विपरीत परिणाम देश की अर्थव्यवस्था से ले कर आम जनता की सुखसहूलियत पर होंगे. मोदी ने ऐलान किया कि 50 दिन बीतने के बाद जनता के अच्छे दिनों की शुरुआत होगी और ब्लैकमनी का सफाया हो जाएगा.

Digital Plans
Print + Digital Plans
COMMENT