बौलीवुड में सैफ अली खान अपनी साफगोई के लिए जाने जाते हैं. वह अपने मन के विचारों को व्यक्त करते हुए हिचकते नहीं है. 2014 में जब केंद्र में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के नेतृत्व में सरकार बनी थी, तो सैफ अली खान ने हमसे एक्सक्लूसिव बात करते हुए इस सरकार से काफी उम्मीदें जतायी थी.

अब साढ़े चार वर्ष बाद जब हमने सैफ अली से एक्सक्लूसिव बात करते हुए उन्हे याद दिलाया कि साढ़े चार वर्ष पहले उन्होने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की काफी तारीफें की थी. पर अब वह क्या सोचते हैं, तो सैफ अली खान ने बिना किसी लाग लपेट के कहा- ‘‘देखिए,अब मुझे इस बात का डर है कि बहुत ज्यादा हिंदुतत्व हो गया, लोग मैनौरिटी के खिलाफ खड़े हो जाएंगे. मुझे ही नहीं तमाम लोगों को मैनौरिटी के खिलाफ हिंदुओं के पोलोराइजेशन का डर सताने लगा है. तो भारत के संदर्भ में यह अच्छी बात नही होगी. भारत में हिंदू, मुस्लिम,  क्रिश्चियन, सिख सब को मिलकर रहना चाहिए. सरकार को चाहिए कि इन सभी को एक साथ लेकर चले.

मगर इस सरकार में कुछ अच्छे काम हो रहे हैं. मेरी नजर में जीएसटी एक अच्छा कदम उठाया गया है. यह सरकार रूपए और अर्थशास्त्र को लेकर अच्छे काम कर रही है. और जब देश में आर्थिक उन्नति होगी, तो भारत सुपर पावर बन सकता है. मैं यह भी समझता हूं कि भारत बहुत मुश्किल देश है. यहां सबको खुश रखना आसान नहीं है. इसीलिए हम सरकारों को अवसर देते रहते हैं. 2014 में जिस मैजोरिटी के साथ मोदी सरकार केंद्र में आयी, उससे हमें लगा कि कुछ चीजें आसान हो जाएंगी. देखिए, मैं राजनीति को लेकर बहुत ज्यादा कमेंट नहीं करता. पर हमारी सोच इतनी है कि देश का भला होना चाहिए.

हम चाहते हैं कि भारत विश्व में सुपर पावर बने. हम अपनी फिल्में भी इसी हिसाब से बना रहे हैं. हम सभी फिल्म निर्माण में पूरी लगन व जोर दे रहे हैं. तो हम उम्मीद करते हैं कि भारत सुपर पावर बने, फिर चाहे वह मोदी सरकार में हो या किसी अन्य की सरकार में हो या मिश्रित सरकार में हो. पर फिलहाल मुझे इस सरकार का कोई पर्याय नजर नहीं आ रहा.

Tags:
COMMENT