शिवसेना नेता व सांसद संजय राउत निर्मित शिवसेना सुप्रीमो बाला साहेब ठाकरे की हिंदी और मराठी दोनो भाषाओं में बनी बायोपिक फिल्म ‘‘ठाकरे’’ 25 जनवरी 2019 को प्रदर्शित होने जा रही है. अभिजीत पनसे निर्देशित इस फिल्म में बाला साहेब ठाकरे का किरदार नवाजुद्दीन सिद्दिकी तथा उनकी पत्नी मीनाताई का किरदार अमृता राव ने निभाया है.

अमृता राव ने स्वयं मराठी भाषी होने के नाते मराठी भाषी फिल्म में अपने संवाद स्वयं डब किए हैं. जबकि मराठी भाषा वाली फिल्म में नवाजुद्दीन के संवाद मशहूर अभिनेता सचिन खेड़ेकर ने डब किए थे, जो कि मराठी भाषी फिल्म ‘‘ठाकरे’’ के ट्रेलर व टीजर में सुनाई दे रहे हैं.

मगर फिल्म का ट्रेलर आने के बाद से महाराष्ट् खासकर मराठी भाषी दर्शकों द्वारा विरोध शुरू हो गया था. मराठी भाषी लोगों को मानना है कि सचिन खेड़ेकर अति मशहूर अभिनेता हैं. वह अतीत में सुभाष चंद्र बोस सहित कुछ मशहूर किरदार निभा चुके हैं. मराठी व हिंदी सिनेमा में सचिन खेड़ेकर अपनी आवाज व अभिनय को लेकर काफी अच्छी पहचान रखते हैं.

सूत्रों की माने तो पहले शिवसेना के नेताओं ने अपने स्तर पर इस विरोध को दबाने का प्रयास किया और लोगों को समझाने का प्रयास किया कि वह इसे स्वीकार कर लें, मगर बात नहीं बनी. अब सूत्र दावा कर रहे हैं कि संजय राउत ने मराठी भाषा की फिल्म ‘‘ठाकरे’’ में नवाजुद्दीन सिद्दिकी के उन संवादों को जिन्हें पहले अभिनेता सचिन खेड़ेकर ने डब किए थे, उन्हें अब डबिंग आर्टिस्ट चेतन शशिताल की आवाज में डब कराया है. चेतन शशिताल इससे पहले 2015 में प्रदर्शित मराठी फिल्म ‘‘बालकड़ू’’ में बाला साहेब ठाकरे के किरदार को अपनी आवाज दे चुके हैं.

इस प्रकरण पर संजय राउत कहते हैं-‘‘मेरे दिमाग में सचिन खेडे़कर की आवाज और उनका व्यक्तित्व हावी रहा है. मराठी भाषा पर उनका पूरा अधिकार भी है. मगर जो लोग वर्षों से बाला साहेब ठाकरे के प्रशंसक और उनकी आवाज के दीवाने रहे हैं, उन्हे लगा कि सचिन की आवाज परदे पर बाला साहेब ठाकरे की आवाज से मेल नहीं खाती है. लेकिन हम चाहकर भी बालासाहेब की आवाज तो ला नहीं सकते. फिल्म के ट्रेलर में सचिन खेड़ेकर की ही आवाज रखी है.’’

अब तक संजय राउत ने स्वीकार नहीं किया है कि फिल्म के संवाद चेतन शशिताल की आवाज में डब कराए जा चुके हैं.

Tags:
COMMENT