उत्तर प्रदेश के मुरादाबाद पुलिस स्टेशन में अभिनेता व पूर्व सांसद शत्रुघ्न सिन्हा की बेटी और ‘दबंग गर्ल’ यानी कि अभिनेत्री सोनाक्षी सिन्हा के खिलाफ दर्ज 24 लाख रूपए की धोखाधड़ी केस के सिलसिले में सोनाक्षी सिन्हा का बयान लेने पहुंची मुरादाबाद पुलिस को सोनाक्षी सिन्हा के बंगले से बैरंग वापस लौटना पड़ा.

सूत्र बताते हैं कि मुरादाबाद की पुलिस कल, गुरूवार की शाम को सोनाक्षी सिन्हा के बंगले पहुंची थी. पर सोनाक्षी सिन्हा उस वक्त घर पर नहीं थी. अब पुलिस आज, शुक्रवार को एक बार फिर सोनाक्षी से मिलने की कोशिश करेगी. मुंबई में जुहू पुलिस स्टेशन के अधिकारी इस बात की पुष्टि कर रहे हैं. मगर ‘रामायण’’ बंगले के सिक्यूरिटी गार्ड मुरादाबाद पुलिस के आने की खबर से इंकार कर रहे हैं.

वास्तव में सोनाक्षी सिन्हा के खिलाफ मुरादाबाद निवासी प्रमोद शर्मा की ओर से मुकदमा दर्ज कराया गया था,जिसकी तफ्तीश के सिलेसिले में मुरादाबाद पुलिस सोनाक्षी सिन्हा का बयान लेना चाहती है. पुलिस सूत्रों की माने तो मुरादबाद जिले में कटघर इलाके के शिवपुरी गांव निवासी प्रमोद शर्मा ने सबसे पहले 24 नवंबर को मुरादाबाद के एसएसपी से सोनाक्षी सिन्हा के खिलाफ शिकायत की थी.

ये भी पढ़ें- सेक्स संबंधी किसी भी बात पर लोग खुलकर बात नहीं करते: सोनाक्षी सिन्हा 

पूरा ममला:

सूत्रों के अनुसार प्रमोद शर्मा ने शिकायत की है 30 सितंबर 2018 को दिल्ली में ‘‘इंडिया फैशन एंड ब्यूटी अवार्ड’’ कार्यक्रम का आयोजन किया था. इस समारोह में अवार्ड बांटने के लिए सोनाक्षी सिन्हा ने हामी भरी थी. और वे वहां पर नहीं पहुंची थी. जबकि प्रमोद शर्मा  ने सितंबर माह की शुरूआत में ही सोनाक्षी सिन्हा की निजी सचिव मालविका पंजाबी के कहने पर सोनाक्षी सिन्हा के बैंक खाते में औनलाइन 24 लाख रूपए ट्रांसफर कर दिए थे.

सूत्रों की माने तो एसएसपी से मुलाकात के बाद प्रमोद शर्मा ने लिखित शिकायत दी थी. लेकिन क्षेत्रीय पुलिस जांच अधिकारी इस मसले पर टालमटोल करते रहे. उसके बाद प्रमेाद ने 13 फरवरी को जहर खाकर आत्महत्या का प्रयास किया. तब 23 फरवरी को थाना मुरादाबाद जिले के कटघर में धारा 420, 120बी, 406, 34 आईपीसी के तहत सेानाक्षी सिन्हा,अभिषेक सिन्हा, मालविका पंजाबी, धूमिल कक्कड़ व एडगर साकरिया के खिलाफ नामजद एफआई आर दर्ज की गई. इस एफआईआर के खिलाफ सोनाक्षी सिन्हा ने उच्च न्यायालय का दरवाजा खटखटाया और उच्च न्यायालय ने उनकी गिरफ्तारी पर रोक लगाते हुए जांच जारी रखने का आदेश दिया था.

24 फरवरी की मीडिया रिपोर्ट के अनुसार एफआरआई दर्ज होने के बाद सोनाक्षी सिन्हा का काम देख रही कंपनी ‘‘टैलेट फुल औन कंपनी’’ ने बयान जारी किया था कि कई बार याद दिलाने के बावजूद प्रमोद शर्मा ने पैसे जमा नहीं किए थे. एयर टिकट भी नही भेजी थी, जिसके चलते सोनाक्षी को अपनी टीम के साथ मंबई एयरपोर्ट से वापस अपने घर जाना पड़ा था.

ये भी पढ़ें- स्वरा भास्कर के साथ ट्विटर पर हुई बदसलूकी

Tags:
COMMENT