यह साल था 2012, दिल्ली विश्वविद्यालय में मुझे दाखिला लेने का बहुत मन था. लेकिन 12वीं में नंबर इतने नहीं थे कि दाखिला ले पाता. किसी दोस्त ने बताया कि दाखिला लेने का एक तरीका है ईसीए कोटा. यानि एक्स्ट्रा करिकुलर एक्टिविटी. अगर आपके पास कोई टेलेंट है सिंगिंग या एक्टिंग जैंसी तो आप ईसीए से दाखिला ले सकते हैं. मैं बहुत खुश हुआ. मैंने एक्टिंग का आप्शन चुना. उन दिनों फिल्मों में खास दिलचस्पी नहीं थी. लेकिन अपने उछल्ले व्यवहार को देख कर मुझे दाखिला लेने का यही तरीका बेस्ट लगा.

Tags:
COMMENT