रेटिंगःढाई स्टार

निर्माताःब्रम्हानंद एस सिंह और आनंद चैहाण

निर्देशकः ब्रम्हानंद एस सिंह और तनवी जैन

कलाकारः बोमन ईरानी,तनिष्ठा चटर्जी, संजय सूरी, जौयसेन गुप्ता, दिव्या दत्ता, गोविंद नाम देव,यतिन कर्येकर, अखिलेंद्र मिश्रा, बचन पचेरा, बाल कलाकार आरती झा और गोरक्षा सकपाल व अन्य.

अवधिः 1 घंटा 59 मिनट

‘बचपन बचाओ’ का संदेश देने के लिए नोबल पुरस्कार विजेता कैलाश सत्यार्थी के कार्यों से प्रेरित होकर ब्रम्हानंद एस सिंह और तनवी जैन फिल्म ‘‘झलकी’’ लेकर आए हैं. निर्देशक ने एक बाल मजदूर जैसे अति गंभीर विषय पर अपनी तरफ से गंभीर प्रयास किया है, मगर विषयवस्तु को लेकर सीमित सोच के चलते फिल्म अपना प्रभाव छोड़ने में नाकाम रहती है.

कहानीः

फिल्म की कहानी गौरया नामक चिड़िया की एक पुरानी लोककथा के एनपीमेान मे काध्यम से शुरू होती है. गौरैया, जिसका एक दाना बांस की खोल में फंस जाता है, जिसे पाने के लिए वह बढ़ई, राजा, उसकी रानी, सांप,एक छड़ी, आग, समुद्र और एक हाथी तक गुहार लगाती है. हाथी तक पहुंचने से पहले सभी उसे भगा देते हैं. मगर जब हाथी उसकी मदद के लिए उसके साथ चलता है, तो सभी मदद के लिए तैयार हो जाते हैं और गौरैया को उसका दाना मिल जाता है.

फिर मूल कहानी शुरू होती है. कहानी है उत्तर प्रदेश के एक गांव से रामप्रसाद(गोविंद नामदेव) नियमित रूप से बच्चों को श्रम के लिए शहर में ले जाता है. इसके लिए वह बच्चों के गरीब माता पिता को एलईडी टार्च या एफएम रेडियो अथवा कुछ पैसे देकर उनकी भलाई का नाटक करता है. पर उसी गांव की एक नौ साल की लड़की झलकी( बेबी आरती झा) को रामप्रसाद पसंद नहीं. वह हर हाल में अपने छोटे भाई सात साल के बाबू (गोरक्षक सकपाल) को रामप्रसाद से बचाकर रखना चाहती है. पर हालात कुछ इस तरह बदलते है कि राम प्रसाद के साथ झलकी और उसका भाई बाबू मिर्जापुर शहर पहुंच जाते है, जहां रामप्रसाद बड़ी चालाकी से उसके भाई बाबू को बाल मजदूरी के लिए दूसरों के हाथ बेच देते हैं और झलकी को किसी अन्य के हाथ वेश्यावृत्ति के लिए बेचते हैं. झलकी अपने भाई बाबू से अलग हो जाती है, पर वह भागकर खुद को बचा लेती है. फिर वह अपने भाई बाबू की तलाष षुरू करती है. कारपेट बनाने वाली फैक्टरी के मालिक चकिया (अखिलेंद्र मिश्रा) के यहां बाबू कारपेट बनाने के काम में लग जाता है.

ये भी पढ़ें- कैसे शुरु हुई दीपिका रणवीर की लव स्टोरी, ऐसी थी पहली मुलाकात

अपने भाई बाबू की तलाश के लिए झलकी गौरैया की कहानी को याद कर अपने काम पर लग जाती है.उसे सबसे पहले रिक्श चालक रहीम चाचा (बचन पचेहरा) का साथ मिलता है. जलेबी बेचने वाले दुकानदार को सच पता है, पर वह कुछ बताने को तैयार नही. तब झलकी राजा यानी कि जिले के कलेक्टर संजय (संजय सूरी) के पास पहुंचती है, संजय उसे भगा देते हैं. तब वह नाटकीय तरीके से रानी यानी कि कलेक्टर की पत्नी  सुनीता (दिव्या दत्ता) से मिलती है. सुनीता उसे अपने घर ले जाकर अपने साथ रहने के लिए कहती है और आष्वस्त करती है कि वह जल्द उसके भाई को ढुंढ़वा देंगी.पर संजय ख्ुाद को असमथर्थ बताते हैं. रहीम चाचा की मदद से झलकी को यह पता चल जाता है कि उसके भाई बाबू से कारपेट बनाने वाली कंपनी के मालिक चकिया बाल मजदूरी करा रहे हैं. एक दिन जब वह छिपकर कंपनी के अंदर पहुंचती है तो वह कलेक्टर संजय के ज्यूनियर और एसडीएम अखिलेश(जौयसेन गुप्ता) को चकिया से घूस लेते देख लेती है. पर संजय चुप रहते हैं. उसके बाद नाटकीय तरीके से पत्रकार प्रीति व्यास (तनिष्ठा चटर्जी) और बच्चों को छुड़वाने काम कर रहे समाज सेवक (बोमन ईरानी) की मदद से झलकी अपने भाई व गांव के अन्य बच्चों का बाल मजदूरी से मुक्त कराकर अपने गांव पहुचती है.

कहानी खत्म होने के बाद कैलाश सत्यार्थी का लंबा चैड़ा भाषण और उनके द्वारा 86 हजार बच्चों को छुड़ाए जाने के दौरान के उनके कार्यां के वीडियो भी आते हैं.

लेखन व निर्देशनः

मूलतः डाक्यूमेंट्री फिल्मकार ब्रम्हानंद एस सिंह की बतौर निर्देशक यह पहली फीचर फिल्म है, जिसमें उनके साथ निर्देशन में सहयोगी के रूप में तनवी जैन भी जुड़ी हुई हैं. ब्रम्हानंद एस सिंह ने संगीतकार आर डी बर्मन और गजल गायक जगजीत सिंह लंबी डाक्यूमेंट्री बना चुके हैं. जिसका असर फिल्म में इंटरवल से पहले नजर आता है. इंटरवल से पहले जिस तरह से दृष्य व पार्श्व में गाने पिरोए गए हैं, उससे फीचर फिल्म् की बजाय डाक्यमेंट्री का अहसास होता है. इंटरवल के बाद घटनाक्रम घटित होते हैं. पर पटकथा में कुछ झोल के साथ निर्देशन में कुछ कमियां है. फिल्म बेवजह लंबी खींची गयी है.

फिल्म में बच्चो के यौन शोषण को भी बहुत हलके फुलके से दिखाया गया है. फिल्मकार के रूप में ब्रम्हानंद ने बाल मजदूरी के साथ जुड़े हर इंसान को बेनकाब करने का प्रयास किया है. फिल्म में भाई कही तलाश में जुटी झलकी के अंदर के गहरे डर का भी बेहतरीन चित्रण है. कालीन बुनाई के लघु उद्योग में किस तरह छोटे छोटे बच्चे काम कर रहे है और उन्हें किस हालात में रखा जाता है, उसका यथार्थ चित्रण है.मिर्जापुर में घरेलू उद्योगों की लंबी श्रृंखला में कालीन की बुनाई उद्योग है.जहां बाल तस्करी का नेक्सस बड़ा और शक्तिशाली है. मगर फिल्मकार ने इसका बहुत सतही चित्रण किया है.

अभिनयः

जहां तक अभिनय का सवाल है, तो झलकी के किरदार में बाल कलाकार आरती झा अपने शानदार अभिनय से मन मोह लेती हैं. गोरक्षा सकपाल ने भी बाबू के किरदार के साथ न्याय किया है.यह दोनो भाई-बहन के रूप में एक अद्भुत, वास्तविक बंधन बनाते हैं.फिल्म में बेहतरीन कलाकारों की लंबी चैड़ी फौज है, मगर पटकथा लेखन व निर्देशकीय कमजोरी के चलते यह कलाकार बंधे से नजर आते हैं. कोई भी खुलकर अपनी प्रतिभा को सामने नहीं ला पाया.

ये भी पढ़ें- पूजा हेगड़े हैं निर्देशकों की पहली पसंद

Tags:
COMMENT