बीती सदी के उत्तरार्द्ध तक धरती के ऊपर या नीचे पानी की कमी नहीं थी. हां, धरती से पानी निकालने वाले संसाधनों की कमी जरूर थी. धीरेधीरे दुनिया भर में नएनए साधनों का विकास हुआ. एक से एक अच्छी तकनीक सामने आती चली गईं.

तकनीकों का यह आलम है कि धरती के हजारों फीट नीचे से पानी निकालना तो आसान हो ही गया, इंसान अथाह गहराइयों वाले समुद्र के नीचे से गैस और तेल निकालने लगा है. कई जगहों पर तो अंडरवाटर रेस्टोरेंट तक बन गए हैं.

Tags:
COMMENT