जानकारी

गलतियां इंसान से ही होती हैं और वही उन गलतियों को सुधारता भी है. अगर उसे गलतियों को सुधारने का मौका ही न दिया जाए तो खामियाजा गलती करने वाले को ही भुगतना पड़ता है. बैंक या फाइनैंस कंपनियों में लेनदेन से संबंधित गलतियां होती रहती हैं. समय रहते उन गलतियों को सुधार भी लिया जाता है और अगर सुधार न हो पाए तो खामियाजा गलती करने वाले को अथवा बैंक को भोगना पड़ता है. बात चूंकि पैसे से जुड़ी होती है, इसलिए इस का असर भी व्यापक होता है.

Tags:
COMMENT