उत्तर प्रदेश की योगी सरकार ने अयोध्या में दीवाली पूजन के समय जिन राम, सीता और लक्ष्मण की आरती उतारी, वह दिल्ली के युवा मौडल थे. आयोजन से केवल 4 दिन पहले उनको यह बताया गया कि उनको राम, सीता और लक्ष्मण के किरदार निभाने हैं.

मौडलिंग और फिल्मों की अपनी अलग दुनिया होती है. कई तरह की पार्टी और फोटो शूट भी होते हैं. सीता बनी आंचल घई के हौट फोटो मीडिया में वायरल हो रहे हैं.

इनमें कुछ कम कपडों में हैं, तो एक फोटो में सीता का किरदार निभाने वाली आंचल कोई ड्रिंक हाथ में लिये हुये हैं.

सोशल मीडिया पर इन फोटो को अयोध्या के आयोजन की खबर और फोटो के साथ ट्रेंड किया गया है. असल में उत्तर प्रदेश की सरकार ने दीवाली में इन कलाकारों को राम, सीता और लक्ष्मण के पहनावे में हेलीकाप्टर से अयोध्या में उतारा. सरकार के द्वारा एक नाटकीय रूपातंरण किया गया. जिस तरह दीवाली की कहानियों में राम सीता और लक्ष्मण पुष्पक विमान से लंका विजय के बाद अयोध्या आये थे तो अयोध्या में रहने वालों ने उनकी आरती उतारी और दीपों से अयोध्या को सजाया था.

राम, सीता और लक्ष्मण बने हेमंत, आंचल और विक्रांत ठाकुर हेलीकाप्टर से राम सीता और लक्ष्मण की पूरी पोशाक में उसी वेशभूषा में अयोध्या में उतरे तो उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ और राज्यपाल राम नाइक ने उनका स्वागत किया. मुख्यमंत्री ने तो राम का स्वागत अयोध्या के महाराज के रूप में किया. दिल्ली के रहने वाले 20 साल के हेमंत ने राम का किरदार निभाया. अपने किरदार के बारे में हेमंत ने बताया कि 4 दिन पहले उनको इस बात का पता चला. इसके बाद रामायण सीरियल को देखकर इसकी पूरी तैयार की. सबसे खास बात राम की तरह छाती चौडी करके चलना, चेहरे का भाव, ज्वेलरी और धनुष को लेकर चलना था.

लक्ष्मण का किरदार निभाने वाले 25 साल के विक्रांत ठाकुर उत्तर प्रदेश के मुज्जफरनगर के रहने वाले हैं. उन्होंने कुछ मराठी फिल्में भी की हैं. विक्रांत ने यूटयूब पर रामायण को देखकर अपने किरादार की तैयारी की. विक्रांत ने कहा कि राम और सीता पूरी तरह से भगवान लग रहे थे. उनके साथ खुद को देखकर रोमांच सा हो रहा था. विक्रांत इंजीनियरिंग की पढ़ाई कर चुके हैं.

सीता बनने वाली आंचल घई 22 साल की हैं. वह 2 साल से दिल्ली में मौडलिंग कर रही हैं. 4 दिन में सीता के पूरे किरदार को निभाने का रिहर्सल किया. रोज 8 से 10 घंटे मेहनत की. वैसे उनको कुछ बोलना नहीं था पर सीता की तरह से दिखना, चलना, उनके कपड़े पहनना सब बड़ा मुश्किल काम था. आंचल ने बताया कि जब मुख्यमंत्री और राज्यपाल सहित कई लोग उनकी आरती उतार रहे थे तो काफी अलग अनुभव हो रहा था.

सीता बनी आंचल की फोटो को लेकर लोग तरह तरह के कमेंट भी कर रहे हैं. ऐसा पहली बार नहीं हुआ है. इसके पहले रामायण में सीता का किरदार निभाने वाली दीपिका के कुछ फोटो भी आये थे. जिनपर हंगामा हुआ था. असल में इस तरह का किरदार निभाने वालों को लोग धार्मिक अवतार समझ लेते हैं. ऐसे में जब इन किरदारों को निभाने वालों के ऐसे वैसे फोटो सामने आते हैं तो पूरा हंगामा हो जाता है. उत्तर प्रदेश की सरकार ने जिस तरह से अयोध्या के आयोजन को धार्मिक रंग दिया. उससे प्रदेश की जनता इन कलाकारों को अपना आदर्श समझ बैठी थी. जब सीता का किरदार निभाने वाली आंचल के हौट फोटो वायरल हुये तो जनता भौचक्की रह गई.

आमतौर पर ऐसे किरदारों को निभाने वाले कलाकार रंगमंच और रामलीला से जुड़े होते हैं. अयोध्या में दीवाली पूजन का पूरा कार्यक्रम बहुत भव्य और प्रोफेशनल तरीके से तैयार किया गया था, इसलिये इसमें रामलीला की जगह पर मौडलिंग और एक्टिंग करने वाले कलाकारों को लिया गया. यह कलाकार देखने में रामलीला के  कलाकारों से अधिक सुदंर दिखते हैं. आज मीडिया के इस दौर में फोटो में अच्छा दिखना भी एक महत्वपूर्ण हिस्सा होता है. अब सीता बनी आंचल के पुराने फोटो सामने आने से एक हंगामा सा हो गया. इससे यह भी पता चल गया कि अयोध्या के आयोजन को खास बनाने के लिये हर तरह से परफेक्ट काम किया गया.