दीवाली के दौरान आप का कुत्ता डरा, सहमा, कांपता और भूंकता रह सकता है लेकिन त्योहार की मौजमस्ती के बीच अकसर लोग कुत्तों की परेशानियों को दरकिनार कर देते हैं. हालांकि, यह समझना महत्त्वपूर्ण है कि कुत्तों और बिल्लियों की सुनने की ताकत ज्यादा होती है, इसलिए हम जिस आवाज को तेज समझते हैं वह उन के लिए और ज्यादा तेज तथा कई बार असहनीय होती है. इस के अलावा, कुत्ते तेज आवाज से होने वाले कंपन के प्रति भी संवेदनशील होते हैं. सो, दीवाली के मौके पर कुत्ते,

बिल्ली जैसे पालतू जानवरों का अतिरिक्त खयाल रखा जाना जरूरी है.

क्या करें

सुनिश्चित करें कि आप का कुत्ता छुटपन में ही सभी से घुलमिल जाए. उसे भिन्न किस्म की आवाजें सुनने दें और अलग अनुभवों से गुजरने दें. हालांकि, कुछ कुत्ते आतिशबाजी से फिर भी डरेंगे. इसलिए यह सुनिश्चित करना उन के मालिकों की जिम्मेदारी है कि वे अपने कुत्ते को इस तरह ट्रेंड करें कि आतिशबाजी के दौरान भी वह अपनेआप को सुरक्षित महसूस करे.

डा. कलाहल्ली उमेश कहते हैं कि दीवाली में आतिशबाजी के शोरशराबे से पालतू जानवर थोड़े सहम जाते हैं. जिस तरह से हम अपने बच्चों को आतिशबाजी या किसी अन्य बदलावों के बारे में बताते हैं, ठीक उसी तरह अपने पालतू जानवरों को भी इन बदलावों के अनुकूल होने में सहायता करने की जरूरत है ताकि वे डरमुक्त हो सकें.

ऐसे करें ट्रेंड

अपने कुत्ते को आतिशबाजी शुरू होने से 1 दिन पहले बाहर घुमाने के लिए ले जाएं. अगर आतिशबाजी चल रही हो तो अपने कुत्ते को घर में रखें. ऐसे समय में कभी भी उसे घुमाने के लिए न ले जाएं और न बाहर रखें. पटाखों के शोर व प्रकाश के प्रभाव से बचने के लिए खिड़कियां और दरवाजे बंद कर परदे लगा दें. ध्यान रहे, अगर इस के बावजूद कमरे में धुआं भर गया हो तो खिड़कीदरवाजे खोल दें. पटाखों की आवाज कम करने के लिए टैलीविजन या रेडियो की आवाज थोड़ी तेज भी कर सकते हैं. साथ ही, कुत्ते का ध्यान भी बंटाए रखें.

अगर आप का कुत्ता डरने जैसा व्यवहार कर रहा हो तो उसे दुलारिए नहीं, क्योंकि इस से उस का यह व्यवहार मजबूत हो सकता है. उस से सामान्य व्यवहार कीजिए, जैसे डरने की कोई बात ही न हो. उसे एक उपयुक्त सुरक्षित जगह दीजिए जहां वह छिप सके और जब वह इस जगह पर जाए तो उसे परेशान नहीं करना चाहिए. आप चाहें तो उस के कान में रुई डालने की आदत भी डाल सकते हैं.

इस के अलावा कुछ लोग अपने पालतू जानवर को शोर के पास जाने के लिए मजबूर करते हैं. शोर डरावना होता है. ऐसा नहीं करना चाहिए. इस से आखिरकार आप अपने कुत्ते को और ज्यादा डरा देंगे. ऐसी स्थिति से बचने के लिए कुत्ता आक्रामक भी हो सकता है.

दीवाली के बाद

दीवाली गुजर जाए तो आतिशबाजी के प्रति अपने कुत्ते की संवेदनशीलता कम करने के बारे में सोचना शुरू कर दें. इस से आप को यह फायदा होगा कि अगली बार वह पटाखों से नहीं डरेगा. आप आतिशबाजी की सीडी या टेप खरीद सकते हैं. शुरू में चलाते समय आवाज काफी कम रखें. यह आप दीवाली से पूर्व भी कर सकते हैं ताकि आप का कुत्ता धीरेधीरे शोरशराबा सुनने का आदी हो जाए.

  1.   आवाज वाली इस सीडी को चलाने के दौरान उसे पेडिग्री खाने जैसी कोई आनंददायक चीज दीजिए या फिर उस के साथ खेलिए. इसे हर दिन, कई बार, कुछ देर के लिए दोहराइए. जब तक आप का कुत्ता कोई नकारात्मक प्रतिक्रिया न दिखाए, आप धीरेधीरे आवाज बढ़ा सकते हैं. कुछ समय के बाद आप का कुत्ता आवाज को डरावना मानना बंद कर देगा और इसे खानेखेलने जैसे आनंददायक अनुभवों से जोड़ने लगेगा.
  2.    कुछ बेहद गंभीर मामलों में आप के कुत्ते के डाक्टर उसे कुछ दवा देने के लिए कह सकते हैं ताकि आप के कुत्ते का आतिशबाजी से डर खत्म किया जा सके.
  3.     याद रखिए, दवाओं का उपचार सिर्फ डाक्टर की सलाह पर किया जाना चाहिए. हालांकि, यह सिर्फ अस्थायी समाधान है और समस्या को दूर नहीं करेगा. आतिशबाजी के प्रति अपने कुत्ते की संवेदनशीलता को कम करने के लिए विशेषज्ञ की सलाह लेना महत्त्वपूर्ण है.