वक्त की मार बड़ी कठोर होती है. वक्त तो अच्छे भले इंसान को अपने इरादे बदलने पर मजबूर कर देता है. इन दिनों जिस तरह से बड़े बड़े स्टार कलाकारों की फिल्में बाक्स आफिस पर दम तोड़ रही हैं, उससे हड़कंप मचा हुआ है. अब कई कलाकारों ने अपनी पारिश्रमिक राशि कम करने की बात कहना शुरू कर दिया है. मगर बालीवुड से जुड़े सूत्रों की माने तो अभिनेता सैफ अली खान को तो अपनी पारिश्रमिक राशि एक तिहाई करनी पड़ी है.

जी हां! सूत्रों के अनुसार सैफ अली खान ने तीन साल पहले निर्माता सुनील क्षेत्रपाल की अनाम फिल्म को अठारह करोड़ रूपए की पारिश्रमिक राशि में साइन किया था. पर कुछ वजहों से इस फिल्म का निर्माण टलता रहा. सैफ अली खान ओर असीम क्षेत्रपाल किसी एक विषय पर सहमत नही हो पा रहे थे. तो दूसरी तरफ पिछले तीन साल के दौरान सैफ अली खान की ‘‘गो गोवा गान’’, ‘‘बुलेट राजा’’, ‘‘हमशकल्स’’, ‘‘हैप्पी एंडिग’’ के साथ साथ ‘‘फैंटम’’ बुरी तरह से बाक्स आफिस पर असफल हो गयी.

इतना ही नही बतौर निर्माता भी वह बुरी तरह से असफल रहे है. सूत्रों पर यकीन किया जाए तो फिल्म निर्माण में सैफ अली खान के भागीदार दिनेया विजन से भी उनकी अनबन चल रही है. दिनेष विजन ने अपनी एक अलग कंपनी बनाकर भी फिल्म निर्माण करना शुरू कर दिया है. तो तीसरी तरफ सैफ अली खान के पास कोई काम नही है. इसी के चलते सूत्रो के अनुसार इस बार सैफ अली खानने एक अच्छी कहानी के मिलते ही निर्माता सुनील क्षेत्रपाल की फिल्म में अभिनय करने के लिए हामी भर दी है. मगर इसके लिए उन्हे अपनी फीस एक तिहाई करनी पड़ी है. यानी कि अब वह सुनील क्षेत्रपाल की इस फिल्म को अठारह करोड़ रूपए की बजाय महज छह करोड़ रूपए में करने वाले हैं.

इसके अलावा फिल्म को जो लाभ हेागा उसमे भी सैफ अली खान की पैंतीस प्रतिशत हिस्सेदारी होगी. इतना ही नहीं सैफ अली व सुनील क्षेत्रपाल के बीच इस बात पर भी सहमति हुई है कि फिल्म के निर्माण व प्रचार आदि का सारा खर्च चालीस करोड़ के उपर नहीं जाएगा. सूत्रों के अनुसार अब सुनील क्षेत्रपाल, सैफ अलीखान के साथ नवंबर 2015 में रिलीज हुई कमल हासन की तमिल फिल्म ‘‘थूंगावनम’’ को हिंदी में बनाएंगे. यह फिल्म 2017 मे रिलीज होगी.

Tags: