सरिता विशेष

कभीकभी वे चीजें जो हमें बेहद प्रिय होती हैं, हम से छीन ली जाती हैं, हम से दूर हो जाती हैं. हम उन्हें अपने पास रखने का भरपूर प्रयास करते हैं पर वे हमारे हाथ से फिसल ही जाती हैं, जिस से हमें दुख होता है. जब हम किसी के साथ पूरा जीवन बिताने की सोच रहे होते हैं, और वह अचानक दूर हो जाता है तो ऐसी परिस्थिति में हमें समझ ही नहीं आता कि कहां जाएं, क्या करें पर धीरेधीरे समय बीतता है तो हम जीने के तरीके सीखते जाते हैं.

खालीपन तो काफी समय तक रहता ही है पर जब एक बार हमारा दिल उसे भूलने लगता है या फिर उसे क्षमा करने लगता है तो हमें महसूस होता है कि इस ब्रेकअप ने हम में कितना सकारात्मक परिवर्तन किया है. आप को बता दें कि ब्रेकअप के बाद आप बेहतर इंसान बन जाते हैं यदि आप इन बातों पर विचार करें :

दूसरे की तकलीफ समझते हैं : आप जान जाते हैं कि कैसा लगता है जब विश्वास टूटता है, और जिस के प्रति आप समर्पित हों और जब वह आप का नाजायज फायदा उठाए तो क्या होता है. जो इस परिस्थिति से गुजरता है वही जानता है कि कितनी तकलीफ होती है. इसी पल आप निश्चित कर लेते हैं कि आप किसी के साथ ऐसा नहीं करेंगे, क्योंकि आप खुद उस दौर से गुजर जो चुके होते हैं.

खुद को मजबूत बनाएं : बे्रकअप से आप को यह सीख मिल जाती है कि अपनी खुशी के लिए दूसरों पर निर्भर नहीं होना है. इस से आप महसूस करते हैं कि प्यार आप के जीवन में किसी की जरूरत का नाम नहीं है, उन के साथ रहने की इच्छा है. ब्रेकअप के बाद आप कभी भी खुद को पूरा करने के लिए किसी का सपोर्ट नहीं चाहेंगे.

भावानात्मक रूप से मजबूत : आप को अपने भीतर की ताकत का अंदाजा होगा. कभी जो आप को अपनी पूरी दुनिया लगता था, अब वह आप के लिए बस एक धुंधली सी याद रहेगा. आप को एहसास होगा कि आप कितनी दूर निकल आए हैं. आप जान जाएंगे कि अब आप को कोई चीज नहीं रोकेगी और आप अपनी उम्मीद से ज्यादा भावनात्मक रूप से मजबूत इंसान हैं, यह एक आश्चर्यजनक अनुभूति होगी.

स्वयं की महत्ता :  जब आप तनमन से किसी रिश्ते को बनाए रखने के लिए अपने आत्मसम्मान की भी चिंता न करें और तब भी रिश्ता न बचे, तब आप स्वयं का ज्यादा सम्मान करना शुरू कर देते हैं. आप अपनी महत्ता स्वीकारने लगते हैं और आप यह सोचना शुरू कर देते हैं कि भविष्य में आप बहुत कुछ पाने लायक हैं और यह खयाल कि आप ने अपनी तरफ से रिश्ता बचाने का हर संभव प्रयास किया था, आप को मूव औन होने के लिए आश्वस्त करता है और आप भविष्य में स्वयं को इस स्थिति से हमेशा सावधान रखते हैं.

सकारात्मक सोचें : जब हमारे सब प्रयास विफल हो जाते हैं, अकसर तब हम विद्रोही हो जाते हैं. पहले सीरियस ब्रेकअप के बाद आप अकसर वे सब चीजें करने लगते हैं जो आप नहीं किया करते थे, आप दुनिया को और नजर से देखते हैं और जान पाते हैं कि अब तक आप लोगों को समझ ही नहीं पा रहे थे. कभीकभी प्यार तब भी अचानक हो सकता है जब हम इस की आशा ही नहीं कर रहे होते हैं.

अच्छेबुरे की पहचान : आप समझने लगते हैं कि लोग हमेशा वैसे ही नहीं होते हैं जैसे वे देखने में लगते हैं. अब आप जानते हैं कि हर चीज जिस का आरंभ अच्छा हो, जरूरी नहीं कि उस का अंत भी अच्छा होगा, इसलिए आप इतने सीधे, मूर्ख भी नहीं रह पाते कि हर किसी पर विश्वास करते रहें. अब आप सचेत रहते हैं.

प्यार की परिभाषा : हम अकसर उन लोगों के पीछे अपना समय बिता देते हैं जिन के बारे में हम सोचते हैं कि हमें उन की जरूरत है पर कभीकभी बाद में कटु सत्य सामने आता है. एक बार आप अपने असफल रिश्ते से बाहर आ जाएं, आप जान जाएंगे कि उस व्यक्ति में जिसे परफैक्ट समझते हैं और उस व्यक्ति में जो आप के लिए सही है, कितना बड़ा अंतर है. किसी भी सफल जोड़े से पूछिए जिन्होंने जीवन की कठिनाइयों को पार किया है, वे आप को बताएंगे कि पहली बार मिलते ही उन्हें प्यार नहीं हो गया होगा. जिन्हें आप परफैक्ट समझते थे जब उन के साथ बात बिगड़ जाती है, आप को समझ आने लगता है कि प्यार के बारे में आप की सोच गलत थी.

सब से महत्त्वपूर्ण चीज, ब्रेकअप आप को स्वयं पर निर्भर रहना सिखा देता है. जब ब्रेकअप होता है, हम स्वयं को अकेला पाते हैं, तब हम स्वयं की ओर ध्यान देते हैं. खुद को पसंद कर के, जैसे भी हम हैं, आगे बढ़ते हैं. इसलिए ब्रेकअप से हौसला न खोएं, आत्मविश्वास बनाए रखें.