सरिता विशेष

लोग तो वजन घटाते हैं, लेकिन आप को बढ़ाने के लिए बोला गया था?

मैं पहले ही 80 किलोग्राम से ज्यादा की थी बावजूद इस के मुझे शो ‘ढाई किलो प्रेम’ के लिए वजन बढ़ाने के लिए कहा गया तो मैं ने मना कर दिया, क्योंकि अगर उस से ज्यादा वेट बढ़ता तो मुझे परेशानी हो जाती. एक बात और कहना चाहती हूं कि मेरा वजन 80 किलोग्राम ही था 108 किलोग्राम नहीं, क्योंकि हर जगह यही प्रचारित हुआ है कि मैं 108 किलोग्राम की थी.

अपनी फिटनैस के लिए क्या करती हैं? 

मैं स्लिम नहीं हूं, यह हमेशा याद रखती हूं. मगर फिटनैस के लिए हमेशा प्रयास करती रहती हूं. मैं बहुत ऐक्टिव लड़की हूं. साइक्लिंग और ऐक्सरसाइज नियमित करती हूं. खाना भी अब डरडर कर खाती हूं. मैं ने अपनी फिटनैस को ले कर बहुत सैक्रीफाई किया, लेकिन मेरी बौडी ही ऐसी है कि जो भी थोड़ाबहुत खाती हूं शरीर पर नजर आने लगता है.

फैटी लोगों के लिए क्या कहना चाहेंगी? 

अगर किसी को मैडिकल प्रौब्लम नहीं है तो मैं उन से कहूंगी कि वेटलौस के लिए हमेशा प्रयास करते रहना चाहिए. लोगों द्वारा आप के मोटापे को ले कर दिए गए कमैंट्स पर ध्यान न दें. अपनी प्रतिभा को इतना ऊंचा करें कि लोगों का ध्यान आप के शरीर पर न जा कर आप की प्रतिभा पर जाए. कभी मोटापे को कैरियर में रुकावट मानने की गलती न करें.

क्या आप को भी कमैंट्स का सामना करना पड़ा?

हमारे यहां लोगों का चेहरा और फीगर देख कर उस की योग्यता का आकलन किया जाता है. कई बार लोग बातोंबातों में कमैंट्स करते हैं, लेकिन मैं इग्नोर कर देती हूं. पहले फील होता था, मगर अब मैं ऐसी बातों को तवज्जो नहीं देती. ओपराह विनफ्रे जैसी कितनी शख्सीयत हैं हमारे यहां जिन्होंने फीगर और रंगरूप से उठ कर अपना नाम बनाया है.

लोग आप की तुलना भूमि से कर रहे हैं?

मैं और भूमि पेडणेकर दोनों बहुत अलग हैं. दोनों की जर्नी अलग है, काम अलग है. मैं नहीं चाहूंगी कि कोई मेरी तुलना किसी दूसरे से करे.

आई एम नौट फैटी

अंजलि मानती हैं कि लोग अपने मोटापे को ले कर दुखी रहते हैं जबकि उन्हें अपने मन से यह बात निकाल देनी चाहिए कि मोटा होने के कारण वे और लोगों से अलग हैं, बल्कि अपने अंदर विश्वास और लोगों को अपना टेलैंट दिखाने की ताकत को विकसित करना चाहिए. वे अपनेआप को कभी मोटा नहीं मानतीं.

किरदार के सभी रंग पसंद

स्टार प्लस के शो ‘कुल्फी कुमार बाजेवाला’ में नैगेटिव किरदार निभा रही अंजलि मानती हैं कि एक ऐक्टर को हर तरह के किरदार निभाने चाहिए.

घर का काम खुद करती हूं

अंजलि कहती हैं कि शूटिंग के चलते वे वर्कआउट नहीं कर पाती थीं, इसलिए उन्होंने अपने घर से मेड को हटा दिया. घर का सारा काम अब खुद करती हैं. उन के अनुसार घर का काम करना सब से बैस्ट ऐक्सरसाइज है.

कपड़ों के लिए विदेश जाना पड़ता है

खाने की शौकीन अंजलि की सब से बड़ी कमजोरी बिरयानी है. वे ऐक्टिंग से पहले प्लस साइज मौडल भी रह चुकी हैं. अंजलि को एक बात की समस्या होती है और वह है उन के कपड़ों की शौपिंग. इस के लिए उन्हें विदेश जा कर शौपिंग करनी पड़ती है, क्योंकि यहां उन के साइज के कपड़े नहीं मिलते.