सरिता विशेष

पेरैंट्स पर घर परिवार व औफिस के काम के अलावा भी कई तरह की जिम्मेदारियां होती हैं, जिस की वजह से वे कई बार कुछ जरूरी चीजें भूल जाते हैं. कभीकभी तो ऐसा होता है कि उन्हें काम के बोझ के बावजूद बैंक के एक छोटे से काम के लिए औफिस से छुट्टी लेनी पड़ती है ताकि समय पर काम हो सके, क्योंकि घर में उन के अलावा बैंक के कार्यों को करने वाला और कोई दूसरा सदस्य नहीं होता.

लेकिन आप एक जिम्मेदार किशोर की भूमिका निभा कर बैंक के कार्यों में उन की मदद कर सकते हैं. इस से आप भी बैंक के काम सीख जाएंगे और उन्हें छोटेछोटे कार्यों के लिए छुट्टी नहीं लेनी पडे़गी. अब आप सोच रहे होंगे कि आप कौनकौन से काम कर सकते हैं. आप को तो बैंक का कोई काम नहीं आता और इन कार्यों से आप की बाकी चीजें डिस्टर्ब होंगी, लेकिन ऐसा कुछ नहीं है. आप पढ़ाई, मस्ती व ऐंजौयमैंट के साथसाथ बैंक के कार्यों में पेरैंट्स की मदद कर सकते हैं.

Video Feature : फोर्ड के साथ लीजिए कुंभलगढ़ यात्रा का मजा

बैंक अकाउंट खोलना सिखाएं

कुछ किशोरों के मातापिता कम पढ़ेलिखे होते हैं. वे बैंक में पैसे जमा करने के बजाय कमेटी वगैरा में पैसे डालना पसंद करते हैं. ऐसे में किशोरों की यह जिम्मेदारी बनती है कि वे अपने पेरैंट्स को समझाएं कि क्यों बैंक में पैसा जमा करना जरूरी है, साथ ही उन्हें बैंक अकाउंट खोलने संबंधी सभी आवश्यक जानकारी दें.

एटीएम कार्ड का इस्तेमाल करना सिखाएं

पेरैंट्स एटीएम मशीन से पैसा निकालने में घबराते हैं इसलिए बैंक से ही पैसा निकालना पसंद करते हैं. आप की यह जिम्मेदारी है कि आप उन्हें एटीएम मशीन से पैसे निकालना सिखाएं. उन्हें बताएं कि मशीन में कैसे कार्ड व पिन डालते हैं, पैसे कैसे निकालते हैं, ताकि वे इस का इस्तेमाल करना सीख जाएं. जब आप उन्हें एटीएम से पैसे निकालना सिखा रहे हैं तो कुछ जरूरी बातें जरूर बताएं कि अगर पैसा न निकले तो क्या करें, एटीएम मशीन में कार्ड फंस जाए तो क्या करें. कोशिश करें टच व बटन दोनों तरह की मशीनों से पैसे निकालना सिखाएं ताकि उन्हें किसी भी मशीन से पैसे निकालने पड़ें तो घबराएं नहीं.

सब से जरूरी बात उन्हें बताना न भूलें कि अगर वे पैसे नहीं निकाल पा रहे हैं तो किसी दूसरे को अपना पिन नंबर बता कर पैसे निकालने की गलती न करें. ऐसा करने से कोई भी कार्ड का गलत इस्तेमाल कर सकता है.

लोन लेने में करें मदद

आप सोच रहे होंगे कि लोन लेने में आप भला कैसे मदद कर सकते हैं, तो आप कुछ इस तरह से उन की मदद कर सकते हैं, जैसे अलगअलग बैंक की लोन स्कीम्स के बारे में पता कर के पापा को बता सकते हैं कि कौन सा बैंक किस आधार पर लोन दे रहा है, ब्याज कितना है, कौन से बैंक से लोन लेना फायदेमंद होगा. लोन लेने के लिए किनकिन डौक्यूमैंट्स की जरूरत होगी. आप सारे डौक्यूमैंट्स तैयार कर के पेरैंट्स का काम हलका कर सकते हैं.

चैकबुक इश्यू करवाना

अगर चैकबुक खत्म होने वाली है तो यह न सोचें कि आप को क्या मतलब है, आप के पापा खुद नई चैकबुक ले लेंगे और भला कौन सा चैकबुक की जरूरत हर रोज पड़ती है बल्कि खुद पापा से पूछने की पहल करें और बैंक से चैकबुक इश्यू करवाएं, क्योंकि किसी को भी नहीं पता होता कि कब पैसों की जरूरत पड़ जाए. एटीएम मशीन से एक लिमिट में ही पैसा निकाला जाता है, लेकिन चैक से निकालने की कोई सीमा नहीं होती.

पासबुक अपडेट करवाना

आप पासबुक अपडेट करवा सकते हैं. कई बार बैंक पासबुक स्टेटमैंट की जरूरत पड़ती है, उस वक्त जल्दीजल्दी पासबुक अपडेट करानी पड़ती है इसलिए पासबुक अपडेट कराना अपनी ड्यूटी समझें. यह जरूरी नहीं कि आप हर महीने अपडेटकरवाएं, 2-3 महीने में एक बार भी करा सकते हैं.

नई स्कीम्स का पता लगाएं

बैंक में समयसमय पर कई नईनई स्कीमें आती हैं, आप उन स्कीम्स के बारे में पता लगा कर अपने पेरैंट्स को बता सकते हैं, आप उन्हें सुझाव दे सकते हैं कि पैसे कहां निवेश कर सकते हैं.

चैक जमा करें

अगर आप के पापा को बैंक में चैक  जमा करना है तो उन्हें औफिस के काम के बीच में निकलना पड़ता है या फिर देर से औफिस जाना पड़ता है, लेकिन आप यह जिम्मेदारी ले कर उन का काम आसान कर सकते हैं.

पैसे डिपोजिट करें

अगर आप के भाईबहन बाहर पढ़ाई करते हैं और आप के पापा उन्हें हर महीने पैसे भेजते हैं तो अब आप यह काम करना शुरू करें, आप बैंक में जा कर पैसा जमा करें. ऐसा भी हो सकता है कि बैंक के कामकाज आप अच्छे से सीख जाएं और आगे जा कर इसी में कैरियर बनाएं.

नैट बैंकिंग से करें काम आसान

हम सब जानते हैं कि जैसेजैसे टैक्नोलौजी का विकास हो रहा है बैंक से संबंधित हर काम औनलाइन होता जा रहा है. आप अपने पापा के बैंक अकाउंट को नैट बैंकिंग से जोड़ कर उन की मदद कर सकते हैं. नैट बैंकिंग से आप बिना बैंक गए बैंक के कई काम कर सकते हैं, इस से पैसे भेजना भी मिनटों का काम है और यह सुरक्षित भी है, लेकिन ध्यान रहे आप जब भी नैट बैंकिंग में लौग इन करें तो साइन आउट करना न भूलें, क्योंकि ऐसा न करने पर कोई आप के अकाउंट का गलत इस्तेमाल कर सकता है.

ऐप्स से करें मदद

आज के किशोरों को टैक्नोफ्रैंडली कहा जाता है, वे इंटरनैट व स्मार्टफोन से संबंधित हर काम कर लेते हैं, आप भी अपने स्मार्टफोन में ऐप डाउनलोड कर के बैंक का काम कर सकते हैं. इस में बस आप को ऐप में रजिस्टर कर के अपना अकाउंट नंबर डालना होगा, बस फिर आप बैंक के काम आसानी से कर सकते हैं. इस का सब से बड़ा फायदा यह है कि इस में समयबाध्यता नहीं होती, आप 24×7 बैंक का काम कर सकते हैं.

अकाउंट ट्रांसफर कराने में करें मदद

अगर आप के पेरैंट्स का ट्रांसफर किसी दूसरे शहर में होता है तो उस समय उन के पास कई तरह के काम होते हैं, इस स्थिति में आप बैंक में जा कर पता कर सकते हैं कि अकाउंट कैसे ट्रांसफर कराते हैं, कितने दिन में होता है ताकि आप के पेरैंटस आसानी से अकाउंट ट्रांसफर करा सकें और शहर छोड़ कर जाने के बाद उन्हें केवल बैंक के काम के लिए दोबारा न आना पड़े.

एक बैंक डायरी बनाएं

आप एक बैंक डायरी बनाएं, जिस में पिन नंबर, अकाउंट नबंर, बैंक  का फोन नंबर, कस्टमर केयर नंबर लिख कर रखें ताकि जब इन की जरूरत पड़े तब उस समय आप को ढूंढ़ने की जरूरत न पड़े, आप तुरंत इन का इस्तेमाल कर सकें. आप इस बैंक डायरी में एफडी की डिटेल भी लिख कर रखें कि आप के पापा ने कौनकौन सी एफडी करवाई है, एफडी कब मैच्योर होगी, आप को कितने पैसे मिलेंगे इत्यादि.

किन बातों का ध्यान रखें

जब भी आप बैंक के काम करें ध्यानपूर्वक करें. ऐसा न हो कि आप अपने बाकी कामों की तरह इस में भी जल्दबाजी दिखाएं, क्योंकि आप की एक छोटी सी गलती पेरैंट्स के लिए बड़ी समस्या पैदा कर सकती है. बैंकिंग संबंधी सभी सूचनाएं गोपनीय रखें, पिन या पासवर्ड किसी को भी न बताएं. ऐसा न करें कि अगर आप बिजी हैं तो पैसे निकालने के लिए एटीएम अपने किसी फै्रंड को दे दें कि वह निकाल कर ला दे, क्योंकि ऐसा करने से आप बड़ी मुसीबत में फंस सकते हैं. इंटरनैट बैंकिंग का इस्तेमाल करते समय थोड़ी सावधानी जरूर बरतें, कभी भी पब्लिक कंप्यूटर या साइबर कैफे से औनलाइन ट्रांजैक्शन न करें. बैंक का कोई भी काम करें तो रसीद लेना न भूलें, क्योंकि यह प्रमाण है कि आप ने बैंक में पैसा जमा किया है.

आप इस लेख को सोशल मीडिया पर भी शेयर कर सकते हैं