मेघालय

जो कपल्स हनीमून जरा हट के मनाना चाहते हैं उन के लिए पूर्वोत्तर राज्य मेघालय का रुख करना बेहतर होगा. यहां का जनजातीय जीवन उन्हें सांस्कृतिक विविधता से भी रूबरू कराता है. मेघालय नाम से ही रूमानियत टपकती है. मेघालय यानी बादलों का घर. यहां की पहाडि़यों से न केवल आप बादलों को नजदीक से देख सकते हैं, बल्कि शिद्दत से महसूस भी कर सकते हैं.

travel

आदिवासी बाहुल्य राज्य मेघालय भारत का स्कौटलैंड भी कहा जाता है क्योंकि यहां की खूबसूरत वादियां, बादलों से ढके पहाड़, झरने और हरेभरे जंगल मिल कर जो नजारा पेश करते हैं वह रूमानियत को और बढ़ा देता है. मेघालय की राजधानी शिलौंग शहर अंगरेजों के शासनकाल में महत्त्वपूर्ण प्रशासनिक केंद्र हुआ करता था. शिलौंग में जो 3 जातियां प्रमुखता से पाई जाती हैं वे हैं खासी, जयंति और मारो. ये तीनों जातियां देश की सब से पुरानी जनजातियां हैं.

मेघालय मातृसत्तात्मक व्यवस्था को मान्यता देता राज्य है. वहां घरों के छोटेबड़े फैसले महिलाएं लेती हैं. आप यह जान कर हैरान हो सकते हैं कि मेघालय में शादी के बाद दूल्हा दुलहन के घर जा कर रहता है.

शिलौंग में दर्शनीय स्थलों की भरमार है. इन में से एक प्रमुख शिलौंग पीक है जो शहर से 10 किलोमीटर दूर है. इस पीक की ऊंचाई 1,965 मीटर है, जहां से पूरा शहर दिखाई देता है. रात के समय यह पीक काफी मनोरम दिखाई देती है.

स्वीट फौल शिलौंग का दूसरा प्रमुख दर्शनीय स्थल है जहां पर्यटक दिनभर इत्मीनान से पिकनिक मनाते हैं. यहां के झरनों से 200 फुट नीचे तक पानी गिरता है.

साथ ही मिलेगी ये खास सौगात

  • 5000 से ज्यादा फैमिली और रोमांस की कहानियां
  • 2000 से ज्यादा क्राइम स्टोरीज
  • 300 से ज्यादा ऑडियो स्टोरीज
  • 50 से ज्यादा नई कहानियां हर महीने
  • एक्सेस ऑफ ई-मैगजीन
  • हेल्थ और ब्यूटी से जुड़ी सभी लेटेस्ट अपडेट
  • समाज और राजनीति से जुड़ी समसामयिक खबरें
Tags:
COMMENT