पश्चिमी कौरिडोर के एक भाग में महाराष्ट्र का कोंकण तट आता है, जो भारत के पश्चिमी भाग का पर्वतीय हिस्सा है. यह स्थान समुद्रतटों के साथसाथ पहाड़ों और प्राकृतिक वनस्पति की खूबसूरती को भी अपने में समेटे हुए है. ऐडवैंचर के शौकीन पर्यटकों के लिए यह स्थान खास है. एमटीडीसी (महाराष्ट्र टूरिज्म डैवलपमैंट कौरपोरेशन) के जौइंट एमडी आशुतोष राठौड़ कहते हैं कि पहले महाराष्ट्र केवल धार्मिक और प्राकृतिक टूरिज्म के लिए ही जाना जाता था लेकिन पिछले 3-4 सालों में यह ग्लोबल टूरिज्म स्पौट के तौर पर उभरा है, जिस में मैडिकल, ऐडवैंचर, फोर्ट सर्किट, एग्रो टूरिज्म आदि आ गए हैं. यहां सैलानियों की संख्या में करीब 17 प्रतिशत की वृद्धि हुई है. महाराष्ट्र में उस के वैलनैस हब होने की अवधारणा पर काम किया जा रहा है.

COMMENT