कठघरे में प्यार: प्रो. विवेक शास्त्री के साथ क्या हुआ

अपने ‘प्यार’ के एक कदम से प्रो. विवेक शास्त्री समझ नहीं पा रहे थे कि रोमियो-जूलियट, हीर-रांझा, शीरीं-फरहाद और लैला-मजनूं के प्यार ने उन्हें कठघरे में ला कर खड़ा कर दिया है या कि उन्होंने ही प्यार को कठघरे में ला कर खड़ा कर दिया है.

सरिता डिजिटल सब्सक्राइब करें
अपनी पसंदीदा कहानियां और सामाजिक मुद्दों से जुड़ी हर जानकारी के लिए सब्सक्राइब करिए
अनलिमिटेड कहानियां-आर्टिकल पढ़ने के लिएसब्सक्राइब करें