लेखक : केशव राम वाड़दे

सुहागसेज पर बैठी थी अनुजा, लेकिन अनछुई ही रह गई थी. परीक्षित का उसे अनछुआ छोड़ कर चले जाना और फिर लौट आना अनापेक्षित सा था उस के लिए. कुछ भी समझ नहीं आ रहा था उस को.

इन दिनों अनुजा की स्थिति ‘कहां फंस गई मैं’ वाली थी. कहीं ऐसा भी होता है भला? वह अपनेआप में कसमसा रही थी.

Digital Plans
Print + Digital Plans
Tags:
COMMENT