‘‘आज पप्पू लौटे तो उस से आरक्षण के लिए कहूं.’’

‘‘आप को यहां कोई तकलीफ है, अम्मांजी?’’ पत्रिका पलटते हुए प्रमिला ने सिर उठा कर पूछा.

‘‘कैसी बात करती हो. अपने घर में भी कोई तकलीफ महसूस करता है, पप्पी.’’

अपनी 3 बहुओं का बड़ी, मझली और छोटी नामकरण करने के बाद अम्मांजी ने अपने सब से छोटे पप्पू की बहू का नाम पप्पी रख लिया था.

‘‘अभी आप को आए कौन से ज्यादा दिन हुए हैं, जो जाने की सोचने लगीं. अभी तो आप कहीं घूमीं भी नहीं. हम तो यही सोचते रहे कि बरसात थमे तो श्रीनगर, पहलगाम चलें.’’

‘‘घूमना तो फिर भी होता रहेगा लेकिन अभी मेरा इलाहाबाद पहुंचना जरूरी है.’’

‘‘छोटे भाई साहब ने तो लिखा है कि अस्पताल में इंतजाम पक्का हो गया है, फिर आप जा कर क्या करेंगी?’’

‘‘तुम समझती नहीं. अस्पताल में तो बिना रोग के भी दाखिल होना पड़े तो बाकी लोगों की दौड़ ही दौड़ हो जाती है. और फिर यह तो अंधी खेती है. ठीक से निबट जाए तो कुछ भी नहीं, वैसे होने को सौ बवाल…’’

‘‘सब ठीक ही होगा. आप बहुत ऊंचनीच सोचती रहती हैं.’’

‘‘सोचना तो सभी कुछ पड़ता है. दशहरा कौन सा दूर है. फिर 20-25 दिन पहले तो पहुंचना ही चाहिए.’’

‘‘सो तो ठीक है, लेकिन यहां अकेले मेरा मन घबराएगा. यह तो सुबह के गए शाम को भी देर से ही लौटते हैं,’’ प्रमिला के चेहरे पर उद्विग्नता छा गई.

‘‘बुरा क्या मुझे नहीं लगता? लेकिन सिर्फ अपने को देख कर दुनिया कहां चलती है, बेटी? मन लगाने के सौ तरीके हैं. तुम किताब भी तो इसीलिए पढ़ती हो.’’

दोपहर को पीछे के बरामदे में बैठी प्रमिला और उस की सास में बातें हो रही थीं. प्रमिला का पति प्रदीप सेना में अफसर था और 2 साल बाद उसे जम्मू में ऐसी नियुक्ति मिली थी जहां वह परिवार को अपने साथ रख सकता था.

प्रमिला के विवाह को अभी डेढ़ वर्ष ही हुआ था और सब से छोटी बहू होने के कारण वह अम्मांजी की विशेष लाड़ली भी थी. अम्मांजी के रहने से उसे घर की चिंता भी नहीं रहती थी. उलटे वह शाम होते ही उसे टोकने लगतीं, ‘‘पप्पू आता होगा. तुम तैयार हो जाओ. कुछ देर को दोनों घूम आना.’’

प्रमिला को बड़ा आश्चर्य हुआ जब शाम को लौटने पर प्रदीप ने अम्मांजी की सीट आरक्षण की बात सुन कर जरा सा भी विरोध नहीं किया और तपाक से कह दिया, ‘‘कल जिस दिन का भी आरक्षण हो सकेगा, उसी दिन का करा दूंगा.’’

रात में पतिपत्नी में चर्चा चलने पर प्रदीप ने प्रमिला से कहा, ‘‘तुम नई हो, अम्मां को नहीं जानतीं. अम्मां की प्राथमिकताएं बड़ी स्पष्ट रहती हैं. जहां वह अपनी जरूरत समझती हैं वहां वह जरूर पहुंचती हैं. आराम और तकलीफ उन के लिए निहायत छोटी बातें हैं. बाबूजी की मृत्यु के बाद अम्मां ने अपने बूते पर ही सारे परिवार को बांध रखा है.

‘‘बड़े भैया पुलिस में हैं. उन को होली पर भी छुट्टी नहीं मिल सकती. इसलिए होली पर सब भाइयों को बड़े भैया के पास पहुंचना पड़ता है, चाहे एक ही दिन को सही. तुम्हारा नया घर व्यवस्थित होना था इसलिए तुम्हारे पास आ गईं. अब छोटी भाभी के पास उन का रहना जरूरी है तो इलाहाबाद जा रही हैं.

‘‘तुम ने शायद ध्यान दिया हो कि अभी 3 महीने पहले बड़े भैया भ्रमण के लिए दक्षिण गए थे. किराया तो खैर सरकार ने दे दिया, लेकिन होटलों में ठहरने आदि में खर्चा अधिक हो गया और लाख चाहने पर भी किसी के लिए वहां की कोई चीज नहीं ला सके.

‘‘लेकिन बड़ी भाभी, दीदी के लिए कांजीवरम की एक साड़ी फिर भी खरीद ही लाईं. पता है क्यों? दीदी की जब शादी हुई थी तब तंगी की हालत थी. हम सब लोग पढ़ रहे थे, इसलिए उन की शादी अच्छे घर में नहीं हो सकी. जीजाजी इतनी लंबी नौकरी के बाद अभी तक बड़े बाबू ही तो हैं.

‘‘हम सभी को यह लगता है कि दीदी के साथ न्याय नहीं हुआ. आज बाबूजी के आशीर्वाद से हम सभी भाई अच्छेअच्छे पदों पर हैं, इसलिए उस का थोड़ाबहुत प्रतिकार करना चाहते हैं. होली, दीवाली, भाईदूज और रक्षाबंधन की साल में 3 साडि़यां तो हर भाई दीदी को देता ही है. फिर उन के बच्चों के लिए भी बराबर कुछ न कुछ दिया ही जाता है.

‘‘कोई भी कहीं बाहर से कोई चीज लाए तो पहले दीदी के लिए सब से बढि़या चीज लाता है. भाइयों से कुछ चूक होने भी लगे तो भाभियां पहले आगे बढ़ जाती हैं.

‘‘बड़ी भाभी तो बिलकुल अम्मांजी का प्रतिरूप हैं. मझली भाभी शुरू में जरूर कुछ कसमसाती थीं, लेकिन जब मझले भैया से कोई प्रोत्साहन नहीं मिला तो वह भी परिवार की लीक पर चलने लगीं. दीदी तो पचासों बार कह चुकी हैं कि शादी हो जाने के बाद भी उन्हें लगता ही नहीं कि वह इस घर से कट कर किसी दूसरे घर की हो गई हैं. अपने लिए साडि़यां तो उन्होंने कभी खरीदी ही नहीं. साल में एकडेढ़ दरजन साडि़यां तो उन्हें मिल ही जाती हैं.’’

‘‘दीदी हैं भी तो बड़े स्नेही स्वभाव की, बच्चों पर तो जान दिए फिरती हैं,’’ प्रमिला ने पति की बात में आगे जोड़ा.

‘‘तभी तो बच्चे बीमार पड़ते ही बूआजी की रट लगाते हैं. दीदी को कहीं सपने में भी किसी की तकलीफ की भनक मिल जाए तो दौड़ी चली आएंगी. इतनी दूरदूर रह कर भी कभी लगता ही नहीं कि हम लोग अलग हैं. अम्मां जिसे जहां जाने को कह दें वह वहीं दौड़ जाएगा, जरा भी आनाकानी नहीं करेगा.

‘‘एक बार मझले भैया को मोतीझरा बुखार हुआ था. अम्मां उन के पास थीं. तभी छोटे भैया को ट्रेनिंग पर जाना पड़ा. छोटी भाभी को धवल की पढ़ाई की वजह से रुकना पड़ा. मकान बहुत सुरक्षित नहीं था और छोटी भाभी हैं भी कुछ डरपोक स्वभाव की.

‘‘अम्मां वहां जा नहीं सकती थीं. उन्होंने बड़ी भाभी को लिखा कि वह छोटी भाभी के पास जा कर रहें, क्योंकि उन के यहां तो पुलिस का पहरेदार रहता ही है और बड़े बच्चों को बड़े भैया पर छोड़ देने में कोई दिक्कत नहीं होगी, अत: बड़ी भाभी न चाहते हुए भी छोटी भाभी के पास चली गईं.’’

प्रदीप अपनी रौ में न जाने क्याक्या कहता चला जा रहा था कि प्रमिला ने उनींदेपन से करवट बदलते हुए कहा, ‘‘अब बहुत हो लिया परिवार पुराण. आखिर सोना है कि नहीं?’’

अम्मांजी के इलाहाबाद जाने के 10 दिन बाद ही प्रदीप को तार मिला कि छोटी भाभी ने एक कन्या को जन्म दिया है और प्रसव में कोई दिक्कत भी नहीं हुई. इस खबर से दोनों ही निश्चिंत तो हुए, परंतु प्रमिला को नवजात शिशु के लिए नए डिजाइन के छोटेछोटे कपड़े सीने का शौक सवार हो गया. वह अनेक रंगबिरंगी पुस्तिकाएं और पत्रिकाएं उलटनेपलटने लगी.

अभी इलाहाबाद जाने का कार्यक्रम बना भी नहीं था कि झांसी से सूचना मिली कि मझले भैया प्रफुल्ल के लड़के मधुप को स्कूटर दुर्घटना में गंभीर चोटें आई हैं. प्रदीप और प्रमिला दोनों ही उसे देखने झांसी पहुंचे तो वहां अम्मांजी सदा की भांति सेवा में तत्पर थीं. देखते ही बोलीं, ‘‘सवा महीना बीतने पर छोटी बहू की लड़की का नामकरण संस्कार करने की सोच ही रही थी कि यहां से फोन आ गया कि मधुप के हाथपैर स्कूटर दुर्घटना में टूट गए हैं.

‘‘फौरन रात की गाड़ी से ही चल कर सुबह यहां पहुंची तो लड़का अस्पताल में कराह रहा था. वह तो खैर हुई कि जान बच गई. 2 जगह पैर की और एक जगह हाथ की हड्डियां टूटी हैं. प्लास्टर चढ़ा है तो क्या 6 हफ्ते से पहले थोड़े ही काटेंगे डाक्टर. दमदिलासा चाहे जैसा दे लें.’’

प्रमिला को यह देख कर कुछ विचित्र सा लगा कि मझली भाभी तो आनेजाने वाले मेहमानों और हितैषियों की खातिरखिदमत में अधिक लगी रहतीं और मधुप के पाखानेपेशाब से ले कर उसे हिलानेडुलाने तथा चादर बदलने तक का सारा काम अम्मांजी करतीं. किसकिस समय कौनकौन सी दवा दी जाती है, इस की पूरी जानकारी भी घर भर में अम्मांजी को ही थी. मझली भाभी तो अम्मांजी को सुबहशाम नहानेधोने की फुरसत देने के लिए ही मधुप के पास बैठतीं और कुछ बातचीत करतीं.

प्रदीप की छुट्टियां कम थीं. वह जब चलने लगा तो प्रमिला स्वयं ही बोली, ‘‘सोचती हूं इस बार दशहरा, दीवाली के त्योहार यहीं पर कर लूं. अगर हो सके तो तुम दीवाली को, चाहे एक दिन को ही, आ जाना. उस दिन तुम्हारे बिना मुझे बहुत बुरा लगेगा.’’

लेकिन अंतिम वाक्य कह कर वह स्वयं ही लजा गई. प्रदीप दाएं हाथ से उसे अपने नजदीक करता हुआ बोला, ‘‘खरबूजे को देख कर खरबूजा रंग पकड़ता है. अब आना तो पड़ेगा ही.’’

और प्रमिला गुलाबीगुलाबी हो गई.

डेढ़ महीने बाद मधुप का प्लास्टर तो कट गया लेकिन न तो पैर और न हाथ ही पूरी तरह सीधा हो पाता था. डाक्टरों ने बताया कि हड्डियां तो ठीक से जुड़ गई हैं, लेकिन इतने समय एक ही जगह बंधे रहने से मांसपेशियां कड़ी पड़ गई हैं, जिन्हें नरम करने के लिए दिन में 3-4 बार नमक मिले गरम पानी से सिंकाई करनी होगी और सिंकाई  के बाद हलकीहलकी मालिश करने के लिए एक क्रीम भी बता दी.

अम्मांजी नियमित रूप से मधुप के हाथपैरों की सिंकाई करतीं और बड़े हलके हाथ से क्रीम लगा देतीं. वह भी और किसी के हाथ से क्रीम नहीं लगवाता था. हर किसी के हाथ से उसे दर्द होता था. हर बार दादी को ही पुकारता था. कभीकभी उस को बेचैनी होती तो कहता, ‘‘दादी, अब मेरे हाथपैर पहले जैसे तो होने से रहे. यों ही लंगड़ा कर चलना पड़ेगा.’’

लेकिन अम्मांजी तुरंत प्रतिवाद करते हुए उसे दिलासा देतीं, ‘‘तू तो बड़ा बहादुर बेटा है. बहादुर बेटे कहीं ऐसी बात करते हैं. तू थोड़ा धीरज रख. चलना तो क्या, तू तो फुटबाल तक खेलता फिरेगा.’’

इस घटना को बीते सालों हो गए हैं. मधुप आज भी कहता है कि वह अपनी दादी के सतत परिश्रम से ही चलनेफिरने योग्य बन सका है.

गरमियों में सविता दीदी की सब से बड़ी लड़की मंजुला की शादी निश्चित हो गई. लड़का भी अच्छा ही मिल गया. वह तेल तथा प्राकृतिक गैस आयोग में किसी अच्छे पद पर था. यह रिश्ता तय होने से परिवार में सभी को बड़ी प्रसन्नता हुई. शादी में कौनकौन जाएगा और भात में क्याक्या देना होगा, यह सभी अम्मांजी ने चुटकी बजाते तय कर दिया.

‘‘प्रदीप पहले ही काफी छुट्टियां ले चुका है इसलिए उसे तो छुट्टी मिलने से रही. मझले प्रफुल्ल झांसी में हैं. वह भात के लिए चंदेरी से साडि़यां लाए, मर्दाने कपड़ों की व्यवस्था बड़े प्रसून करेंगे. प्रभात और उस की बहू शादी में भात ले कर जाएंगे. इसलिए वहां टीका व नजरन्योछावर करने में जो नकद खर्च करना होगा, उसे वह करेंगे. शादी के लिए अपनी फौजी कैंटीन से सामान जुटाने का जिम्मा प्रदीप का रहेगा,’’ अम्मांजी ने ऐसा ही तय किया और फिर ऐसा ही हुआ. इसी कारण इस शादी की चर्चा रिश्तेदारों में बहुत दिनों तक होती रही.

मंजुला के विवाह का उल्लास अभी परिवार पर छाया ही था कि क्रूर काल ने बाज की तरह एक झपट्टा मारा और मंजुला के पिता हेमंत बिना किसी लंबी बीमारी के एक ही दौरे में चल बसे. सारा परिवार सन्न रह गया. सविता दीदी के वैधव्य को ले कर सभी मर्माहत हो गए. सविता दीदी के बड़े लड़के विशाल ने एम.ए. की परीक्षा दी थी. छोटा तुषार तो बी.ए. में ही पहुंचा था.

पीडि़त परिवार की सहायता के लिए हेमंत के प्रतिष्ठान ने विशाल को क्लर्क की नौकरी देने की पेशकश की परंतु बड़े भैया प्रसून इस के लिए तैयार नहीं हुए. उन्होंने कहा, ‘‘अगर अभी से क्लर्की का पल्लू पकड़ लिया तो जिंदगी भर क्लर्क ही बना रहेगा. इस से अच्छा है कि विशाल मेरे पास रह कर एम.बी.ए. करे. उस के बाद उसे कोई न कोई अच्छी नौकरी अवश्य मिल जाएगी.’’

इस के बाद सविता दीदी भी अधिकांश समय प्रसून के पास ही रहतीं, यद्यपि अन्य भाइयों का भी प्रबल आग्रह रहता कि सविता दीदी कुछ समय उन के पास ही रहें. पिता के देहावसान ने विशाल को और अधिक परिश्रम करने को प्रेरित किया और वह एम.बी.ए. की परीक्षा में अच्छे अंकों से उत्तीर्ण हुआ. इस के फलस्वरूप उसे एक अच्छी कंपनी में प्रशासनिक अधिकारी के रूप में आसानी से नौकरी मिल गई.

तुषार भी इस बीच एम.ए. में आ गया था लेकिन उस पर सरकारी नौकरियों का मोह सवार था और वह अभी से प्रतियोगी परीक्षाओं के लिए तैयारी करने लगा था.

बिरादरी और परिचितों में इस परिवार को बड़ी ईर्ष्या किंतु सम्मान से देखा जाता था. कुछ लोग चिढ़ कर कहते, ‘‘जब तक सब भाइयों में सुमति है तभी तक का खेल है, वरना बड़ेबड़े परिवारों को भी टूटने में क्या देर लगी?’’

इस तरह की अनेक बातें अम्मांजी के कानों में भी पहुंचतीं परंतु वह बड़ी शांति से कहतीं, ‘‘संयुक्त परिवार तो तभी चलता है जब परिवार का प्रत्येक सदस्य उस की उन्नति के लिए भरपूर सहयोग दे और अपने निजी स्वार्थ को अधिक महत्त्व न दे. आपसी नोचखसोट और छीनाझपटी शुरू होते ही संयुक्त परिवार बिखर जाता है.’’

हेमंत की मृत्यु के बाद से अम्मांजी काफी चुप रहने लगी थीं परंतु अपने काम में उन्होंने कोई शिथिलता नहीं आने दी थी. अभी भी वह पहले की तरह जहांतहां पहुंचती रहती थीं. प्रसून के हर्निया के आपरेशन के सिलसिले में वह उस के पास आई हुई थीं. आपरेशन ठीक से हो गया था और प्रसून अस्पताल से घर आ चुका था, लेकिन इस बार अम्मांजी की तबीयत कुछ डगमगा गई थी. पड़ोस की एक महिला उन से मिलने आईं तो बोलीं, ‘‘बहनजी, मैं तो आप को 1 साल के बाद देख रही हूं. अब आप काफी टूटी हुई सी लगती हैं.’’

अम्मांजी कुछ देर तो चुप रहीं. फिर कुछ सोचती हुई बोलीं, ‘‘बहनजी, औरत हर बच्चे को जन्म देने में टूटती है, लेकिन स्त्रीपुरुष के संबंधों की कंक्रीट से जुड़ाई बच्चे से ही होती है. वैसे ही परिवार को जोड़े रखने में भी इनसान को कहीं न कहीं टूटना पड़ता है. लेकिन इस जोड़ने की टूटन की पीड़ा बड़ी मीठीमीठी होती है, बिलकुल प्रसव वेदना की तरह.’’

Tags:
COMMENT