गेट पर तिपहिया के रुकने का स्वर सुन कर परांठे का कौर मुंह की ओर ले जाते हुए खुदबखुद विभा का हाथ ठिठक गया. उस ने प्रश्नवाचक दृष्टि से मांजी की ओर देखा. उन की आंखों में भी यही प्रश्न तैर रहा था कि इस वक्त कौन आ सकता है?

सुबह के 10 बजने वाले थे. विनय और बाबूजी के दफ्तर जाने के बाद विभा और उस की सास अभी नाश्ता करने बैठी ही थीं कि तभी घंटी की तेज आवाज गूंज उठी. विभा ने निवाला थाली में रखा और दौड़ कर दरवाजा खोला तो सामने मोहिनी खड़ी थी.

Tags:
COMMENT