आदर्श मलगूरिया

सिख होने के कारण ही मामाजी विवेक के साथ शिखा की शादी करने में आनाकानी कर रहे थे. लेकिन धर्म के आधार पर दिलों को नहीं बांटा जा सकता है, इस बात का आभास मामाजी को सरदार हुकम सिंह के घर नीरू को देख कर हुआ जो वर्षों पहले उठे धार्मिक उन्माद के तूफान में कहीं खो गई थी.

बचपन में वह मामाजी की गोद में चाकलेट, टाफी के लिए मचलती थी. वही उस की उंगली पकड़ कर पार्क में घुमाने ले जाते थे.सरकस, सिनेमा, खेलतमाशा, मेला दिखाने का जिम्मा भी उन्हीं का था. स्कूल की बस छूट जाती तो मां डांटने लगती थीं, पर यह मामाजी ही थे जो कार स्टार्ट कर पोर्च में ला कर हार्न बजाते और शिखा जान बचा कर भागतीहांफती कार में बैठ जाती थी.

‘बहुतबहुत धन्यवाद, मामाजी,’ कहते हुए वह मन की सारी कृतज्ञता, सारी खुशी उड़ेल देती थी. मामाजी का अपना घरपरिवार कहां था? न पत्नी, न बच्चे. शादी ही नहीं की थी उन्होंने. मस्ती से जीना और घुमक्कड़ी, यही उन का जीवन था.

ये भी पढ़ें- एक साथी की तलाश -भाग 1: मधुप और बिरुवा का क्या रिश्ता था

खानदानी जमींदार, शाही खर्च, खर्चीली आदतें. मन आता तो शिखा के यहां चले आते या मुंबई, दिल्ली, कोलकाता घूमने निकल जाते...धनी, कुंआरा, बांका युवक...लड़कियों वाले मक्खियों की तरह भिनभिनाने लगते, पर जाने क्या जिद थी कि उन्होंने शादी के लिए कभी ‘हां’ न भरी.

मां समझातेसमझाते हार गईं. रोधो भी लीं, पर जाने कौन सी रंभा या उर्वशी  खुभी थी आंखों में कि कोई लड़की उन्हें पसंद ही न आती. फिर मांबाप भी नहीं रहे सिर पर. बस, छोटी बहन यानी शिखा की मां थी. उसी का परिवार अब उन का अपना परिवार था.

आगे की कहानी पढ़ने के लिए सब्सक्राइब करें

सरिता डिजिटल

डिजिटल प्लान

USD4USD2
1 महीना (डिजिटल)
  • 5000 से ज्यादा फैमिली और रोमांस की कहानियां
  • 2000 से ज्यादा क्राइम स्टोरीज
  • 300 से ज्यादा ऑडियो स्टोरीज
  • 50 से ज्यादा नई कहानियां हर महीने
  • एक्सेस ऑफ ई-मैगजीन
  • हेल्थ और ब्यूटी से जुड़ी सभी लेटेस्ट अपडेट
  • समाज और राजनीति से जुड़ी समसामयिक खबरें
सब्सक्राइब करें

डिजिटल प्लान

USD48USD10
12 महीने (डिजिटल)
  • 5000 से ज्यादा फैमिली और रोमांस की कहानियां
  • 2000 से ज्यादा क्राइम स्टोरीज
  • 300 से ज्यादा ऑडियो स्टोरीज
  • 50 से ज्यादा नई कहानियां हर महीने
  • एक्सेस ऑफ ई-मैगजीन
  • हेल्थ और ब्यूटी से जुड़ी सभी लेटेस्ट अपडेट
  • समाज और राजनीति से जुड़ी समसामयिक खबरें
सब्सक्राइब करें

प्रिंट + डिजिटल प्लान

USD100USD79
12 महीने (24 प्रिंट मैगजीन+डिजिटल)
  • 5000 से ज्यादा फैमिली और रोमांस की कहानियां
  • 2000 से ज्यादा क्राइम स्टोरीज
  • 300 से ज्यादा ऑडियो स्टोरीज
  • 50 से ज्यादा नई कहानियां हर महीने
  • एक्सेस ऑफ ई-मैगजीन
  • हेल्थ और ब्यूटी से जुड़ी सभी लेटेस्ट अपडेट
  • समाज और राजनीति से जुड़ी समसामयिक खबरें
सब्सक्राइब करें
और कहानियां पढ़ने के लिए क्लिक करें...