अगर आप भीड़ की शक्ल बनाने में सफल हैं तो कानून कुछ भी नहीं कर सकता है. यह मानसिकता अब जनता की भीड़ से निकल कर पुलिस फोर्स में घर कर रही है. भीड़ की शक्ल में एकत्र होकर न्याय और उसकी प्रक्रिया को प्रभावित किया जा सकता है.

जनता में व्याप्त यह चलन अब पुलिस फोर्स में भी फैल रहा है. हत्या के आरोप में जेल भेजे गये अपने साथी सिपाहियों ने जब काली पट्टी बांध कर घटना का विरोध किया तो साफ लगने लगा कि भीड़तंत्र की प्रेरणा पुलिस फोर्स के अंदर भी घर कर गई है. भीड़ के रूप में सिपाहियों का एक वर्ग न केवल काली पट्टी बांध कर विरोध प्रदर्शन कर रहा है बल्कि सोशल मीडिया पर उसका प्रचार भी कर रहे हैं.

COMMENT