अगर आप भीड़ की शक्ल बनाने में सफल हैं तो कानून कुछ भी नहीं कर सकता है. यह मानसिकता अब जनता की भीड़ से निकल कर पुलिस फोर्स में घर कर रही है. भीड़ की शक्ल में एकत्र होकर न्याय और उसकी प्रक्रिया को प्रभावित किया जा सकता है.

जनता में व्याप्त यह चलन अब पुलिस फोर्स में भी फैल रहा है. हत्या के आरोप में जेल भेजे गये अपने साथी सिपाहियों ने जब काली पट्टी बांध कर घटना का विरोध किया तो साफ लगने लगा कि भीड़तंत्र की प्रेरणा पुलिस फोर्स के अंदर भी घर कर गई है. भीड़ के रूप में सिपाहियों का एक वर्ग न केवल काली पट्टी बांध कर विरोध प्रदर्शन कर रहा है बल्कि सोशल मीडिया पर उसका प्रचार भी कर रहे हैं.

सिपाहियों के भीड़तंत्र में बदल जाने का प्रभाव मरने वाले के परिवार पर भी पड़ रहा है. इस घटना के बाद उसे मीडिया के सामने आकर कहना पड़ा कि उनको सिपाहियों से कोई दुश्मनी नहीं है. वह तो केवल न्याय की गुहार लगा रहे हैं. यह परिवार क्या सुरक्षा के लिये उत्तर प्रदेश के पुलिस विभाग पर भरोसा कर सकता है ?

उत्तर प्रदेश की राजधानी लखनऊ में मल्टीनेशनल कंपनी एप्पल में काम करने वाले विवेक तिवारी की हत्या हो जाती है. घटनाक्रम के अनुसार विवेक तिवारी कंपनी के एक समारोह से रात को वापस लौट रहे थे. उनके साथ कंपनी की महिलाकर्मी सना भी थी. विवेक तिवारी सना को घर छोड़ कर अपने घर जाने वाले थे.

आधी रात का वक्त था. गश्त कर रहे पुलिस के दो सिपाहियों ने विवेक तिवारी की चार पहिया गाड़ी को रोकने की कोशिश की. विवेक ने रात का वक्त और साथ में महिला सहकर्मी होने की वजह से गाड़ी नही रोकने का प्रयास किया. सिपाहियों ने कार को जबरन रोकने की कोशिश की. ऐसे में कार से सिपाही की बाइक पर रगड़ लग गई. सिपाही बाइक से उतरा उसने अपनी रिवाल्वर निकाली और विवेक तिवारी के सिर पर गोली मार दी. गोली मारने के बाद दोनों सिपाही भाग गये.

साथ ही मिलेगी ये खास सौगात

  • 5000 से ज्यादा फैमिली और रोमांस की कहानियां
  • 2000 से ज्यादा क्राइम स्टोरीज
  • 300 से ज्यादा ऑडियो स्टोरीज
  • 50 से ज्यादा नई कहानियां हर महीने
  • एक्सेस ऑफ ई-मैगजीन
  • हेल्थ और ब्यूटी से जुड़ी सभी लेटेस्ट अपडेट
  • समाज और राजनीति से जुड़ी समसामयिक खबरें
COMMENT