यह धर्म ही बताता है कि किसी भी जने का ऊंची या नीची जाति में पैदा होना उस के पिछले जन्म में किए गए पुण्य या पाप का नतीजा होता है. समाज में सब से निचले पायदान पर दलित हैं. सब से ऊपर ब्राह्मण, जिसे समाज का दिमाग कहा गया, इसी तरह से क्षत्रिय को छाती, बनिए को पेट या उदर और शूद्र को सब से नीचे पैरों का हिस्सा बताया गया. शूद्र वे हैं, जिन्हें आज बैकवर्ड कहा जाता है.

धार्मिक कहानियों के जरीए बारबार इस बात को बताया गया कि मंदिरों में पूजापाठ, धर्मकर्म करना अपने आने वाले जन्म को बेहतर बनाने के काम आता है. दलितों को 5वीं जाति यानी अछूत या जाति के बाहर के लोग कहा जाता था. उन को इस बात का बारबार एहसास कराया गया कि मंदिरों में पूजापाठ करना या धार्मिक ग्रंथ पढ़ना, यह सब उन के लिए नहीं है.

आज भी देश में तमाम मंदिर ऐसे हैं, जहां दलितों के लिए पूजापाठ करना मना है. कई बार ऐसे मंदिरों में प्रवेश को ले कर लड़ाईझगड़ा तक होता रहता है. मंदिरों में पुजारी के रूप में कहीं भी दलित नहीं हैं. धर्म के इसी भेदभाव का शिकार हो कर डाक्टर भीमराव अंबेडकर ने बौद्ध धर्म अपनाया था.

आजादी के समय देश में धार्मिक लैवल पर भेदभाव और छुआछूत बड़े पैमाने पर था. यही वजह है कि दलित समाज को बराबरी का दर्जा देने के लिए सरकारी नौकरियों और चुनाव लड़ने के लिए राजनीतिक हलकों में रिजर्वेशन दिया गया. इस वजह से दलित समाज का एक बड़ा तबका माली और सामाजिक रूप से आगे बढ़ गया.

साथ ही मिलेगी ये खास सौगात

  • 5000 से ज्यादा फैमिली और रोमांस की कहानियां
  • 2000 से ज्यादा क्राइम स्टोरीज
  • 300 से ज्यादा ऑडियो स्टोरीज
  • 50 से ज्यादा नई कहानियां हर महीने
  • एक्सेस ऑफ ई-मैगजीन
  • हेल्थ और ब्यूटी से जुड़ी सभी लेटेस्ट अपडेट
  • समाज और राजनीति से जुड़ी समसामयिक खबरें
Tags:
COMMENT