‘आधुनिकता’ शब्द की हमारे दिमाग में ऐसी छवि बनती है जैसे कोई समसामयिक और नई बात है. ज्यादातर लोग इसे नए जमाने की देन समझते व मानते हैं. संभवतया इस का मुख्य कारण आधुनिकता को बाहरी या परिधान, मेकअप आदि के स्तर तक सीमित कर देना लगता है. विचारों की आधुनिकता को खुलापन या पाश्चात्य जीवनशैली और सोच मान लिया जाता है. दोनों ही रूपों में आधुनिकता निखरती है. अपने असली रूप में यह हमें लाभ पहुंचाती है.

अकसर कोई बुजुर्ग हमें अपने जैसा या अपने से आगे सोचता हुआ मिलता है तो हम ताज्जुब करते हैं. जनरेशन गैप खत्म होता जान पड़ता है. विचारशील लोग इसे शाश्वत सोच का नाम दे देते हैं जो कालजयी तथा लिंगभेद और देशकाल से ऊपर होती है.19वीं शताब्दी के आखिर में मेवाड़ में गंगा बाई आमेरा ने अपने 8 भाइयों की मृत्यु के बाद स्वयं घरपरिवार का बीड़ा उठाया. शिक्षा ग्रहण की. 1907 में डिलिवरी के 27 दिनों बाद ही देवरानी और उस के कुछ दिनों बाद देवर की मृत्यु हो जाने पर उन के बच्चे को अपनाया, पालापोसा. मेवाड़ में गांधीजी के चलाए स्त्रीशिक्षा आंदोलन में चर्चित रहीं. उस समय हर घर से एक बेटी और एक बहू को पढ़ाने का आंदोलन चला. उन्होंने अपने 2 पोतों की बहुओं को पढ़ाने की अगुआई की. नौकरी लगने पर स्वयं पोते की बहू को नौकरी जौइन कराने ले गईं. प्रपौत्री के जन्म पर उन्होंने शानदार जश्न आयोजित किया, तो लोगों ने हंसी उड़ाई.

ये भी पढ़ें-शराब माफियाओं के दबाव में सरकार

उस समय लड़कियों को इतना महत्त्व नहीं दिया जाता था. लोग आज भी इस बात की चर्चा करते हुए कहते हैं कि गंगाबाई ने सब को मुंहतोड़ जवाब देते हुए कहा कि लड़का कहां से आता है और लड़की कहां से आती है? प्रकृति ने कोई भेद नहीं किया तो हम क्यों करें? मुझे इस बच्चे के जन्म पर जो खुशी हुई है, मैं उस का आनंद उत्सव मना रही हूं.आज यह बात भले ही आम लगे पर उस समय बहुत खास थी. ऐसा सोचने और करने वाले लोग न के बराबर थे. स्त्रियां परदे में रहती थीं. उस समय वे बहुओं से कहती थीं, ‘कोई घूंघट नहीं निकालेगा. मेरे सामने पैदा हुई हो, तुम्हीं मुझ से न हंसोबोलो और मन की बात न करो तो यह क्या बात हुई.’ बहुएं घरपरिवार, पड़ोस या गांव की हों, सभी उन्हें प्यार से गंगा बूआजी कहती थीं और उन से सलाहमशवरा कर लिया करती थीं.

आगे की कहानी पढ़ने के लिए सब्सक्राइब करें

सरिता डिजिटल

डिजिटल प्लान

USD4USD2
1 महीना (डिजिटल)
  • 5000 से ज्यादा फैमिली और रोमांस की कहानियां
  • 2000 से ज्यादा क्राइम स्टोरीज
  • 300 से ज्यादा ऑडियो स्टोरीज
  • 50 से ज्यादा नई कहानियां हर महीने
  • एक्सेस ऑफ ई-मैगजीन
  • हेल्थ और ब्यूटी से जुड़ी सभी लेटेस्ट अपडेट
  • समाज और राजनीति से जुड़ी समसामयिक खबरें
सब्सक्राइब करें

डिजिटल प्लान

USD48USD10
12 महीने (डिजिटल)
  • 5000 से ज्यादा फैमिली और रोमांस की कहानियां
  • 2000 से ज्यादा क्राइम स्टोरीज
  • 300 से ज्यादा ऑडियो स्टोरीज
  • 50 से ज्यादा नई कहानियां हर महीने
  • एक्सेस ऑफ ई-मैगजीन
  • हेल्थ और ब्यूटी से जुड़ी सभी लेटेस्ट अपडेट
  • समाज और राजनीति से जुड़ी समसामयिक खबरें
सब्सक्राइब करें

प्रिंट + डिजिटल प्लान

USD100USD79
12 महीने (24 प्रिंट मैगजीन+डिजिटल)
  • 5000 से ज्यादा फैमिली और रोमांस की कहानियां
  • 2000 से ज्यादा क्राइम स्टोरीज
  • 300 से ज्यादा ऑडियो स्टोरीज
  • 50 से ज्यादा नई कहानियां हर महीने
  • एक्सेस ऑफ ई-मैगजीन
  • हेल्थ और ब्यूटी से जुड़ी सभी लेटेस्ट अपडेट
  • समाज और राजनीति से जुड़ी समसामयिक खबरें
सब्सक्राइब करें
और कहानियां पढ़ने के लिए क्लिक करें...