27 अक्टूबर को राजधानी में आयोजित इंडिया मोबाइल कांग्रेस 5G नेटवर्क का डंका पीट रहे एक डाक्टर बता रहे थे कि किस तरह एक रिमोट लोकेशन पर बैठकर हम किसी मरीज का लाइव अल्ट्रासाउंड कर सकेंगे. साथ में दूसरे टेक्निकल एक्सपर्ट 5G नेटवर्क के जरिए वर्चुअली एक आदमी को एक जगह से दूसरी जगह होलोग्राम फार्म में भेजने की तकनीकी क्रान्ति का हवाला दे रहे थे. हालांकि भारत में यह तकनीक आने में साल 2020 तक का इन्तेजार करना पड़ेगा तब तक 2 या 3G से ही काम चलाना पड़ेगा.

COMMENT