27 अक्टूबर को राजधानी में आयोजित इंडिया मोबाइल कांग्रेस 5G नेटवर्क का डंका पीट रहे एक डाक्टर बता रहे थे कि किस तरह एक रिमोट लोकेशन पर बैठकर हम किसी मरीज का लाइव अल्ट्रासाउंड कर सकेंगे. साथ में दूसरे टेक्निकल एक्सपर्ट 5G नेटवर्क के जरिए वर्चुअली एक आदमी को एक जगह से दूसरी जगह होलोग्राम फार्म में भेजने की तकनीकी क्रान्ति का हवाला दे रहे थे. हालांकि भारत में यह तकनीक आने में साल 2020 तक का इन्तेजार करना पड़ेगा तब तक 2 या 3G से ही काम चलाना पड़ेगा.

वर्चुअल दीवार के उस पार

फिलहाल देश में इंटरनेट सस्ता है और लोग इफरात से इसका इस्तेमाल कर रहे हैं. लेकिन क्या अप जानते हैं इस फ्री इंटरनेट ने देशदुनिया में एक डिजिटल डिवाइडर को जन्म दे दिया है. यानी एक तरफ वे लोग हैं जो इंटरनेट और गैजेट के इस्तेमाल से दूर हैं और सामान्य जिन्दगी जी रहे हैं, दूसरी तरफ वे हैं जो दिनरात स्मार्टफोन, कम्प्यूटर, लैपटॉप, टैब, आइपैड पर नजरें गड़ाए आभासी डिजिटल दुनिया में खोये रहते हैं. इस सिनारियो ने घर और बाहर एक डिजिटल डिवाइडर पैदा कर दिया है और इसका खामियाजा बच्चे भुगत रहे हैं. अमेरिका की नयी प्यू रिसर्च एनालिसिस रिपोर्ट 2018 बताती है कि इंटरनेट के इस डिजिटल डिवाइडर के चलते हर 5 में से 1 बच्चा होमवर्क गैप का शिकार हो रहा है. यानी लाखों बच्चे अपना होमवर्क सिर्फ इसलिए पूरा नहीं कर पाते क्योंकि उनके हाथ में स्मार्टफोन और इंटरनेट की बेलगाम डोर थमा दी है पेरेंट्स ने.

होमवर्क गैप के शिकार

होमवर्क गैप की चोट 13 से 17 साल के बच्चों को लग रही है. ये वही बच्चे हैं जो इंटरनेट की असुरक्षित गलियों में आवारा होकर घूमते रहते हैं और अपना क्लास का होमवर्क पूरा नहीं करते. फिर यह होमवर्क गैप उनके एकेडेमिक करियर को घुन की तरह धीरे धीरे खाने लगता है. इसी साल हुए इस शोध में करीब 17 प्रतिशत टीनेजर्स मानते हैं कि उन्होंने डिजिटल एक्सेस की वजह से कई दफा अपने क्लास असाइंमेंट पूरे नहीं किया जबकि 13 प्रतिशत टीन्स ऐसे भी थे जो यह कहते हैं कि इंटरनेट की वजह से वे अक्सर अपना होमवर्क कम्प्लीट करना भूल जाते हैं.यह हाल सिर्फ अमेरिकी बच्चों का नहीं है बल्कि समूची दुनिया में इंटरनेट की चपेट में आये बच्चे अपनी अपनी असल जिन्दगी से कनेक्शन तोड़कर कर वर्चुअल दुनिया में जी रहे हैं.

भारत में तो हाल और भी बदतर हैं. नितिन अरोड़ा कहते हैं, “एक साल पहले मैंने बेटे को यह सोचकर स्मार्टफ़ोन दिलाया कि वह इस पर अपने होमवर्क और क्लास असाइंमेंट से जुडी जानकारियां हासिल कर लेगा. क्योंकि वह अक्सर मुझसे क्लास असाइंमेंट पूरे करने के लिए मोबाइल मांगता था, लिहाजा मैंने उसे नया स्मार्टफोन और इंटरनेट कनेक्शन दिलवा दिया. लेकिन उसके बाद से ही वह हम लोगों से कटता चला गया. न समय पर डिनर और लंच करता और न ही घर आये किसी मेहमान से मिलता. जब देखो तब उसके हाथ में मोबाइल चिपका रहता. यहाँ तक कि बाथरूम में भी वह उसे अपने साथ ले जाता. मना करने पर चिड़चिड़ा हो जाता. एक दिन उसके स्कूल से शिकायत आई कि आपका बच्चा कोई भी असाइंमेंट पूरा नहीं करता..”

पीछा न छुड़ाएं बच्चों से

नितिन अकेले नहीं है, उनके जैसे कई मातापिता हैं जिनके बच्चे अनजाने में वर्चुअल दुनिया में जीने के आदी हो जाते हैं. पढ़ाई करियर से उनका मन उचाट जाता है और इन्स्टा, ट्विटर और पोर्नबाजी में उनके दी गुजरते रहते हैं. दरसाल ऐसा इसलिए होता है क्योंकि आजकल बच्चों के साथ उनके असाइमेंट कम्प्लीट करने का समय नहीं होता पेरेंट्स के पास. जब बच्चे उनसे बार बार स्कूल और होमवर्क पूरा कराने का दबाव डालते हैं तो वे पीछा छुडाने के लिए उन्हें यह कहकर इंटरनेट की दुनिया में धकेल देते है कि यहाँ से देखकर ओना होमवर्क कम्प्लीट कर लो. लेकिन होता इसके उलट है. बच्चा होमवर्क का काम तो दूर वहां कुछ और ही खोजने लगता है. इसी तरह बच्चा जब अपने साथ पेरेंट्स को बैठाकर शतरंज, कैरम जैसे इंडोर गेम्स या पार्क में क्रिकेट खेलने के लिए कहता है तो पेरेंट्स मोबाइल में गेम्स खेल लो, कहकर पीछा छुड़ा लेते हैं. जब तक उन्हें इसके साइडइफेक्ट्स समझ आते हैं तब तक काफी देर हो चुकी होती है.

पढ़ने के लिए प्रेरित करें

यह बात सही है कि आजकल बच्चों के स्कूल के होमवर्क से लेकर प्रोजेक्ट तक अब ऑनलाइन ही जमा किए जाते हैं. लेकिन यह सब पैरेंट्स और टीचर्स की निगरानी में होना तो ही ठीक है. बच्चों को किताब, पत्रिकाओं को पढ़ने के लिए कहिये, जिनमें असल जिदगी की व्यावहारिक जानकारियों से वे रूबरू होते हैं. इंटरनेट का अधकचरा ज्ञान उन्हें बीच राह में भटकने के लिए छोड़ देगा.

दुनिया भर के देशों में इंटरनेट की लत से लोगों को निकालने के लिए स्पेशलिस्ट सेंटर्स होते हैं, भारत में ऐसे सेंटर्स अब खुलने शुरू हुए हैं. क्या आप भी अपे बच्चों को ऐसे स्कूल की जगह ऐसे सेंटर्स में भेजना चाहते हैं?

COMMENT