छुट्टा जानवरों से खेत और फसल को सुरिक्षत रखने के लिये उत्तर प्रदेश की मोदी सरकार ने ‘पशु आश्रय केन्द्र’ ग्राम पंचायत स्तर पर खोलने का फैसला किया था. जिसके तहत कटीले तार के बाड़े और पानी भरी खाई को खोद कर ग्राम प्रचायतों में ‘पशु आश्रय केन्द्र’ बनाये गये. इनमें जानवरों के चारा पानी और देखभाल के लिये सरकार द्वारा बजट भी स्वीकृत किया है.

गरमी के मौसम में यह आश्रय केन्द्र पशुओं के लिये कैदखाने बन गये है. ‘पशु आश्रय केन्द्र’ के पेड़ की छांव न होने के कारण गरमी के माह में पशुओं को धूप का मुकाबला करना पड़ रहा हैं. इसके अलावा खराब प्रबंधन के कारण ‘पशु आश्रय केन्द्र’ केन्द्र में चारे की समुचित व्यवस्था भी नहीं हो रही है.

अब भूखे प्यासे और धूप को तडप रहे पशुओं को इन ‘पशु आश्रय केन्द्र’ से बाहर भगा दिया जा रहा है. जिसकी वजह से पशु फिर से खेतों को नुकसान पहंचा रहे हैं और ‘पशु आश्रय केन्द्र’ खाली पड़े है. उत्तर प्रदेश की राजधानी लखनऊ की सबसे प्रमुख तहसील मोहनलालगंज के ‘पशु आश्रय’ के हालात बताते है कि ‘पशु आश्रय केन्द्र’  किस हालत में अव्यवस्था का शिकार होकर ‘पशु आश्रय केन्द्र’ की जगह पर कैद खाने बन कर रह गये हैं.

ये भी पढ़े- मुद्दा शक्ति तो आ गई, अच्छे दिन कब आएंगे

जानकारों की माने तो मोहनलालगंज तहसील के परहेटा, कुढा, कमालपुर बिचलिका सहित कई ‘पशु आश्रय केन्द्र’ पूरी तरह से खाली हो चुके हैं. दूसरे ‘पशु आश्रय केन्द्र’ भी अव्यवस्था का शिकार हो रहे है. यहां पर छांव और पानी की कमी के साथ पशुओं के खाने को भी भोजन नहीं है. गरमी बढ़ने से यह पशु अब बेहाल हो रहे हैं.

‘पशु आश्रय केन्द्र’ की व्यवस्था से जुड़े लोग पशुओं को इन ‘पशु आश्रय केन्द्र’ से बाहर भाग जाने दे रहे हैं. यह केवल एक तहसील का ही हाल नहीं है. पूरे उत्तर प्रदेश का यही हाल है. पशुओं के फिर छुट्टा जानवरों के रूप में सड़क और खेतों में आने से नुकसान फिर से शुरू हो गया है. फिर से ये पशु धान को लगाने के लिये तैयार नर्सरी का नुकसान करने लगे हैं.

ऐसे में ‘पशु आश्रय केन्द्र’ महज दिखावा बन कर रह गये हैं. ‘पशु आश्रय केन्द्र’ को बनाने में सरकार ने लाखो रूपया खर्च किया. इसमें रहने वाले पशुओं को खिलाने के लिये चारे की व्यवस्था भी की गई. अब यह सब किसी बड़े घोटाले सा हो गया है. अगर सही तरह से पूरे उत्तर प्रदेश में ‘पशु आश्रय केन्द्र’ के हालात को देखा जाये तो यह किसी बड़े घोटाले में बदलते दिख जायेंगे. जिम्मेदार अधिकार जांच की बात करके अपना पल्ला झाड़ ले रहे हैं. अधिकारी कह रहे हैं कि ‘पशु आश्रय केन्द्र’ में छांव के लिये पेड़-पौधे और टीन शेड़ तथा चारा पानी की व्यवस्था ठीक रखने के लिए उपाय किये जा रहे हैं.

ये भी पढ़े- धराशायी होते पुल : क्या लोगों की जान इतनी सस्ती?

Tags:
COMMENT