इस कहानी का घटनाक्रम कुछकुछ श्रीदेवी और उर्मिला मातोंडकर की फिल्म ‘जुदाई’ जैसा था. काश…

या‘कांटा बुरा करैत का और भादों की घाम, सौत बुरी हो चून की और साझे का काम’.

कहावत सौ फीसदी सच है लेकिन 36 वर्षीय हनीफा बेगम पर यह कहावत लागू नहीं हुई. उस के पति अंसार शाह ने जब वंदना सोनी के बारे में उसे बताया कि उस से उस के शारीरिक संबंध हैं और वह भी बीवी जैसी ही है तो न जाने क्यों हनीफा उस पर भड़की नहीं थी, न ही उस ने मर्द जात को कोसा था. और न ही उस के सुहाग पर डाका डालने वाली वंदना को भलाबुरा कहा था. भोपाल इंदौर हाइवे के बीचोबीच बसे छोटे से कस्बे आष्टा को देख गंगाजमुनी तहजीब की यादें ताजा हो जाती हैं. इस कस्बे के हिंदू मुसलिम बड़े सद्भाव से रहते हैं और आमतौर पर दंगेफसाद और धार्मिक विवादों से उन का कोई लेनादेना नहीं है.

मारुपुरा आष्टा का पुराना घना मोहल्ला है. अन्नू शाह यहां के पुराने बाशिंदे हैं, जिन्हें इस कस्बे में हर कोई जानता है. उन का बेटा अंसार शाह बस कंडक्टर है. अंसार बहुत ज्यादा खूबसूरत तो नहीं लेकिन आकर्षक व्यक्तित्व का मालिक है. 3 बच्चों के पिता अंसार की जिंदगी में सब कुछ ठीकठाक चल रहा था, लेकिन करीब 3 साल पहले वंदना उस की जिंदगी में आई तो जिंदगी के साथसाथ दिल में भी तूफान मचा गई.

34 वर्षीय वंदना भरेपूरे बदन की मालकिन होने के साथ सादगी भरे सौंदर्य की भी मिसाल थी. मूलरूप से भोपाल के नजदीक मंडीदीप की रहने वाली वंदना ने इस उम्र में आ कर भी शादी नहीं की थी. वह अभी घरगृहस्थी के झंझट में इसलिए भी नहीं पड़ना चाहती थी ताकि घर वालों की मदद कर सके. उस के परिवार की आर्थिक स्थिति बहुत अच्छी नहीं थी. दोनों बड़ी बहनों की शादियों में मांबाप का जमा किया हुआ सारा पैसा लग गया था.

पढ़लिख कर वंदना ने नौकरी के लिए हाथपांव मारे तो उसे स्वास्थ्य विभाग में अपनी मां की तरह एएनएम के पद पर नौकरी मिल गई. एएनएम गैरतकनीकी पद है जिसे आम लोग नर्स ही कहते और समझते हैं. आजकल सरकारी नौकरी चाहे जो भी हो, किसी भी बेरोजगार के लिए किसी वरदान से कम नहीं होती. नौकरी लग गई तो वंदना जिंदगी भर के लिए बेफिक्र हो गई. एएनएम की नौकरी हालांकि बहुत आसान नहीं है, क्योंकि इस में अपने क्षेत्र के गांवगांव जा कर काम करना पड़ता है.

वंदना को इस में कोई खास कठिनाई नहीं हुई क्योंकि उसे इस नौकरी के बारे में बहुत कुछ पहले से ही मालूम था. कठिनाई तब पेश आई जब उस का तबादला आष्टा हो गया. चूंकि मंडीदीप में रह कर कोई 75 किलोमीटर दूर आष्टा में नौकरी करना मुश्किल था, इसलिए वंदना ने आष्टा में ही किराए का मकान ले लिया. कुछ ही दिनों में उसे आष्टा के सरकारी अस्पताल और शहर की आबोहवा समझ आ गई.

सरकारी योजनाओं के प्रचारप्रसार और ग्रामीणों को स्वास्थ्य जागरुकता के लिए प्रेरित करने के लिए उसे आसपास के गांवों में भी जाना पड़ता था. कई गांव ऐसे थे, जहां वह अपनी स्कूटी से नहीं जा सकती थी, इसलिए उस ने बस से आनाजाना शुरू कर दिया.

फील्ड की नौकरी करने वाली अधिकांश लड़कियां बस से ही सफर करती हैं, यही वंदना भी करने लगी. यह भी इत्तफाक की बात थी कि जिन गांवों की जिम्मेदारी उसे मिली थी, वहां वही बस जाती थी, जिस में अंसार कंडक्टर था. बस से अपडाउन करने वाली लड़कियों की एक बड़ी परेशानी सीट और जगह का न मिलना होती है, जिसे उस के लिए अंसार ने आसान कर दिया.

जब भी वंदना बस में चढ़ती थी तो अंसार बड़े सम्मान और नम्रता से उस के लिए सीट मुहैया करा देता था. इतना ही नहीं, बस स्टैंड के अलावा सफर के दौरान भी वह वंदना का पूरा खयाल रखता था कि उसे किसी किस्म की दिक्कत न हो. चायपानी वगैरह का इंतजाम वह दौड़ कर करता था, जिस से वंदना का दिल खुश हो जाता था. जैसा कि आमतौर पर होता है, साथ चलते और वक्त गुजारते दोनों में बातचीत होने लगी.

एक अविवाहित युवती जिस ने पहले कभी प्यार न किया हो, वह पुरुष के जिन गुणों पर रीझ सकती है वे सब अंसार में थे. धीरेधीरे कैसे और कब वह उस की तरफ आकर्षित होने लगी, इस का अहसास भी उसे नहीं हुआ. प्यार शायद इसीलिए अजीब चीज कही जाती है कि इस के होने का अहसास अकसर होने के बाद ही होता है. इधर अंसार भी देख रहा था कि वंदना मैडम का झुकाव उस की तरफ बढ़ रहा है तो पहले वह हिचकिचाया.

ये भी पढ़ें- नफरत की आग

कम पढ़ेलिखे अंसार की हिचकिचाहट की वजहें भी वाजिब थीं. पहली वजह तो यह कि वह मुसलमान था, दूसरी यह कि वह शादीशुदा और 3 बच्चों का बाप था और तीसरी यह कि सरकारी नौकरी वाली लड़की का इश्क की हद तक झुकाव ही उस के लिए ख्वाब सरीखा था. शायद उस के बारे में जान कर अपने पांव पीछे खींच ले, इसलिए उस ने वंदना को पहले ही अपने बारे में सब कुछ बता दिया था.

अंसार के प्यार में अंधी हो चली वंदना अपनीजिंदगी के पहले और अनूठे अहसास की हत्या शायद नहीं होने देना चाहती थी, इसलिए उस ने सब कुछ कबूल कर लिया.

आग दोनों तरफ बराबरी से लगी हो तो इश्क की आंधी में अच्छेअच्छे उड़ जाते हैं. यही वंदना और अंसार के साथ हो रहा था. दोनों अब बेतकल्लुफ हो कर एकदूसरे से हर तरह की बातें करने लगे थे. मिलने की तो कोई दिक्कत थी ही नहीं. दोनों बसस्टैंड और बस में साथ रहते थे.

चाहत जब बातचीत, हंसीमजाक और कसमों वादों से आगे बढ़ते हुए शरीर की जरूरत तक आ पहुंची तो दोनों को लगा कि मोहब्बत का अलिफ बे तो बहुत पढ़ लिया, लेकिन अब मोहब्बत को उस के मुकम्मल सफर तक पहुंचा दिया जाए.

लेकिन वहां तक पहुंचने के लिए एकांत का होना जरूरी था, जिस से दोनों पूरी तरह एकदूसरे के हो सकें यानी एकदूसरे में समा सकें. छोटे घने कस्बे में एकांत मिलना आसान काम भी नहीं था, लेकिन छटपटाते इन आशिकों ने उस का भी रास्ता निकाल लिया.

अंसार ने पेशकश की कि अगर वंदना उस के मकान में बहैसियत किराएदार रहने लगे तो सारी मुरादें पूरी हो जाएंगी. दोनों चौबीसों घंटे एकदूसरे की नजरों के सामने रहेंगे और जब भी मौका मिलेगा तब एकांत में मिल भी लिया करेंगे.

जिंदगी के सुखद अनुभवों में से एक को तरस रही वंदना को भला इस पर क्या ऐतराज हो सकता था, लिहाजा वह झट तैयार हो गई. देखते ही देखते वह अब अपने आशिक के मकान में किराएदार के रूप में रहने लगी.

एकांत में मिलने के खतरों और खलल से वंदना तो ज्यादा वाकिफ नहीं थी, लेकिन अंसार को अंदाजा था कि आज नहीं तो कल पकड़े जाएंगे. क्योंकि पास घर होने पर पत्नी हनीफा और बच्चों की नजर उन पर पड़ सकती थी. लिहाजा उस ने बड़े ही शातिराना अंदाज से इस समस्या का भी तोड़ निकाल लिया.

अंसार ने हनीफा को सच बता दिया साथ ही यह इशारा भी कर दिया कि वंदना अपनी सारी पगार उस के घरपरिवार पर खर्च करेगी. उस का मकसद तो महज मौजमस्ती करना है.

हनीफा को सौदा बुरा नहीं लगा क्योंकि अंसार की आमदनी से उस की जरूरतें तो पूरी हो जाती थीं लेकिन सब कुछ खरीद लेने की ख्वाहिशें पूरी नहीं होती थीं. इस के अलावा वह इस बात से भी बेफिक्र थी कि वंदना चूंकि हिंदू है इसलिए अंसार उस से शादी करने की हिम्मत नहीं जुटा पाएगा.

लिहाजा उस ने फिल्म ‘जुदाई’ की श्रीदेवी की तर्ज पर कुछ हजार रुपयों के लिए शौहर का बंटवारा मंजूर कर लिया क्योंकि श्रीदेवी की तरह करोड़ों में सोचने और पति को बेचने की उस की हैसियत नहीं थी.अब उर्मिला मातोंडकर बनी वंदना ठाठ से उस के घर के बगल में आ कर रहने लगी. खुद हनीफा ने उसे यह कहते अंसार से जिस्मानी ताल्लुकात बनाने की इजाजत दे दी थी कि अगर अंसार और वह एकदूसरे के साथ तनहाई का कुछ वक्त गुजारना चाहते हैं तो उसे कोई ऐतराज नहीं.

अब दोनों सहेलियों की तरह रहने लगीं. अकसर खुद हनीफा इस बात का खयाल रखने लगी थी कि जब अंसार वंदना के पास हो तो कोई अड़ंगा पेश न आए. नए अहसास और आनंद के सागर में गोते लगा रही वंदना अब अंसार को ही पति मानने लगी थी और उस के घर पर खुले हाथों से खर्च करती थी. अब वंदना और हनीफा ‘मैं तुलसी तेरे आंगन की’ की नूतन और आशा पारेख की तरह रह रही थीं.

अंसार के तो दोनों हाथों में लड्डू थे. बासी हो चली हनीफा और ताजीताजी वंदना में जमीनआसमान का फर्क था. लेकिन बीवी से बेईमानी करने का उस का कोई इरादा नहीं था, जिस ने उस की चाहत में कोई रोड़ा नहीं अटकाया था, उलटे मददगार ही बनी थी. लिहाजा जिंदगी मजे से कट रही थी. दिन भर वह बस पर रहता था और वंदना अस्पताल में लेकिन रात होते ही दोनों एक कमरे में एक पलंग पर देह सुख ले रहे होते थे.

कुछ महीने तो मौजमस्ती में गुजरे लेकिन जाने क्यों वंदना को लगने लगा था कि अंसार उस का हो कर भी उस का नहीं है और हनीफा ने कोई दरियादिली नहीं दिखाई है बल्कि उस ने उस के पैसों के लिए पति का सौदा किया है.

यह बात जेहन में आते ही वंदना परेशान हो उठी कि आखिर कब तक वह अंसार की रखैल बन कर रहेगी या फिर उसे रखैल बना कर रखेगी. अंसार पर अपना सब कुछ लुटा चुकी वंदना को लगने लगा था कि अंसार बीवीबच्चों की चाहत में शायद ही उस से शादी करे, लिहाजा उस ने उस के परिवारपर पैसा खर्च करना बंद कर दिया.

इस का नतीजा वही हुआ जिस की वंदना को उम्मीद थी. जब पैसा मिलना बंद हो गया तो हनीफा उस से न केवल खिंचीखिंची रहने लगी बल्कि बेरुखी से भी पेश आने लगी. हनीफा के बदले तेवर देख वंदना ने अंसार पर शादी के लिए दबाव बनाना शुरू कर दिया. इस बाबत वह धर्म परिवर्तन करने को भी तैयार हो गई थी.

जल्द ही दोनों में लड़ाई होने लगी और दोनों एकदूसरे को कोसने लगीं. अब हनीफा के दिल में भी यह डर बैठ गया था कि कहीं ऐसा न हो कि दुनियाजहान को धता बताते हुए अंसार वंदना से शादी कर ही डाले. नए कानून के तहत वह इस बात को ले कर तो बेफिक्र थी कि अंसार उसे तलाक नहीं दे सकता, लेकिन दूसरी शादी तो कर ही सकता था.

इधर अंसार की हालत दो पाटों के बीच पिसने वाले अनाज की तरह होने लगी थी. वह न तो वंदना को छोड़ पा रहा था और न ही हनीफा को. ऐसे में उस ने वंदना से शादी करने को कहा तो वंदना इस जिद पर अड़ गई कि पहले हनीफा को तलाक दो फिर हमारी शादी होगी.

जब बात नहीं बनी तो रोजाना की कलह से बचने के लिए वंदना अलग मकान ले कर रहने लगी. लेकिन इस से अंसार का उस के यहां आनाजाना बंद या कम नहीं हुआ. अब दोनों का डर खत्म हो चला था इसलिए दोनों वंदना के नए घर में मिलने लगे.

वंदना में कशिश भी थी और वह सरकारी नौकरी भी करती थी, इसलिए अंसार को लगा कि क्यों न इस से शादी कर ली जाए. पर वंदना की हनीफा से तलाक की शर्त पूरी कर पाना उस के लिए मुश्किल लग रहा था. जब यह तय हो गया कि दोनों में से किसी एक हाथ का लड्डू तो उसे छोड़ना पड़ेगा, तब उस ने हनीफा से तलाक की बात की.

इस पर हनीफा कांप उठी. अब उसे ‘जुदाई’ की श्रीदेवी की तरह अपनी गलती समझ आ रही थी, लेकिन उस वक्त उस के हाथ में सिवाय पछताने के कुछ नहीं बचा था. अभी तो शौहर ने कहा ही है लेकिन कल को तलाक दे ही दे तो वह क्या कर लेगी, यह सोचते ही हनीफा के दिमाग में एक खतरनाक इरादा पनपने लगा.

आष्टा से सटा जिला है शाजापुर, जिस का एक कस्बा है बेरछा, जो मावा उत्पादन के लिए प्रदेश भर में मशहूर है. बीती पहली फरवरी को सुबह बेरछा के गांव धुंसी के चौकीदार इंदर सिंह बागरी ने थाने में इत्तला दी कि जगदीश पाटीदार नाम के किसान के खेत में एक जली हुई लाश पड़ी है.

बेरछा थाने की तेजतर्रार प्रभारी दीप्ति शिंदे खबर मिलते ही पुलिस टीम के साथ घटनास्थल पर जा पहुंचीं. एसपी शैलेंद्र सिंह के निर्देश पर एफएसएल अधिकारी आर.सी. भाटी भी वहां पहुंच चुके थे. लाश इतनी जल चुकी थी कि उसे किसी भी तरह पहचानना नामुमकिन था.

बारीकी से जांच करने पर लाश के नीचे से चाबियों का गुच्छा और अधजला थरमस मिला. लाश के दाहिने पांव में बिछिए और बाएं हाथ की कलाई में चूडि़यां मिलने से यह भर तय हो पाया कि लाश किसी महिला की है. आसपास उड़ कर गिरे. कई अधजले कागज भी बरामद हुए. इन कागजों की लिखावट को लेंस से पढ़ने पर जो शब्द पुलिस वालों को समझ आए वे मुगलई रोड, श्रमिक, जिला स्वास्थ्य अधिकारी, इनवास, इंजेक्शन की बौटल और चिकित्सक आदि थे.

इन शब्दों से अंदाजा लगाया गया कि मृतका का संबंध जरूर स्वास्थ्य विभाग से है. साफ दिख रहा था कि महिला की हत्या कर उस की लाश को पहचान छिपाने की गरज से जलाया गया है. अब तक गांव वालों की भीड़ घटनास्थल पर लग गई थी जिन से पूछताछ करने पर पता चला कि एक दिन पहले एक मारुति वैन इस इलाके में देखी गई थी.

इन साक्ष्यों से पुलिस वालों के हाथ कुछ खास नहीं लग रहा था. ऐसे में मुगलई रोड गांव को आधार बना कर पुलिस जांच आगे बढ़ी तो मालूम हुआ कि यह गांव सीहोर जिले की आष्टा तहसील का है.

आष्टा थाने में पूछताछ करने पर पुलिस का मकसद पूरा हो गया, जहां से पता चला कि मंडीदीप निवासी 2 महिलाएं नीलम और सुनंदा सोनी ने स्वास्थ्य विभाग में कार्यरत अपनी बहन वंदना सोनी की गुमशुदगी दर्ज कराई है. इन दोनों बहनों ने बिछिए और चूडि़यां देख कर वंदना के होने की पुष्टि कर दी.

लाश पहचान में आ गई लेकिन हत्यारे गिरफ्त से बाहर थे, लिहाजा इंसपेक्टर दीप्ति शिंदे सीधे आष्टा अस्पताल पहुंचीं और सीसीटीवी फुटेज निकलवाए, जिन से पता चला कि 31 जनवरी की दोपहर 12 बजे तक वंदना अस्पताल में थी और आखिरी बार किसी एक महिला व बच्ची के साथ बाहर जाती हुई दिखी थी.

पुलिसिया पूछताछ में यह बात भी उजागर हुई कि वंदना कुछ दिन पहले ही बजरंग कालोनी सोनी लौज के पास एक मकान में रहने के लिए आई थी, इस के पहले वह मारूपुरा में अन्नू शाह के मकान में रह रही थी और इस परिवार से उस के बेहद अंतरंग और घनिष्ठ संबंध थे. लेकिन कुछ दिनों से वंदना और हनीफा में लड़ाई होने लगी थी.

सुनंदा और नीलम ने अपने बयानों में बता दिया कि वंदना और अंसार के बीच प्रेम प्रसंग था, जिस के चलते हनीफा उसे परेशान कर रही थी. यह बात वंदना ने फोन पर अपनी बहनों को बताई थी.

शक होने पर पुलिस जब अंसार के घर पहुंची तो पता चला कि हनीफा मायके गई हुई है. इस से पुलिस का शक यकीन में बदलता नजर आया. पुलिस काररवाई आगे बढ़ती, इस के पहले ही स्वर्णकार समाज ने आरोपियों की गिरफ्तारी को ले कर अधिकारियों व मुख्यमंत्री को ज्ञापन दिए और जुलूस भी निकाला.

इसी दौरान आष्टा पुलिस को उस वैन ड्राइवर का पता चल गया जो बेरछा में देखी गई थी. पूछताछ में ड्राइवर ने बताया कि हनीफा और उस का एक साथी वैन में कुछ सामान भर कर ले गए थे. हनीफा के साथी का नाम गुड्डू उर्फ रामचरण पता चला, जो पेशे से तांत्रिक भी था.

ये भी पढ़ें- मानव अंगों का कालाबजार

अब करने को कुछ नहीं रह गया था. पुलिस ने जल्द ही अंसार सहित हनीफा और रामचरण को गिरफ्तार कर लिया. पूछताछ में हैरानी की बात अंसार द्वारा खुद को वंदना का कातिल बताना थी. जब पुलिस ने इस हादसे का रिक्रिएशन यानी नाट्य रूपांतरण कराया तो अंसार गड़बड़ाता दिखा.

अब हनीफा से सख्ती से पूछताछ की गई तो उस ने सच उगल दिया कि घटना वाले दिन वह अस्पताल गई थी और वंदना को झांसा दे कर घर ले आई थी. उस का किराएदार गुड्डू पहले से ही तैयार था. वंदना और हनीफा के बीच की बातचीत जब तकरार और तूतूमैंमैं में बदली तो हनीफा ने वंदना के सिर पर रौड दे मारी. वंदना बेहोश हो गई तो गुड्डू और हनीफा ने गला रेत कर उस की हत्या कर दी.

वंदना की लाश दोनों ने प्लास्टिक के एक ड्रम में ठूंसी और उसे वैन में रख कर 85 किलोमीटर दूर बेरछा के लिए निकल गए. वैन ड्राइवर को हालांकि इन पर शक हो रहा था कि कुछ गड़बड़ है लेकिन अपनी ड्यूटी बजाते हुए उस ने ज्यादा पूछताछ नहीं की. ड्राइवर ने ड्रम गुड्डू की बताई जगह उतार दिया और आष्टा वापस आ गया.

लाश वाले ड्रम को हनीफा के पास छोड़ कर गुड्डू गांव के पैट्रोल पंप से 2 लीटर पैट्रोल लाया और दोनों ने मिल कर वंदना की लाश को जला दिया. जलाने के बाद गुड्डू भोपाल अपने एक दोस्त देवेंद्र ठाकुर के पास आ गया. उसे भी पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया है. हनीफा वापस आष्टा आ गई थी.

इन दोनों का अंदाजा था कि जली लाश पुलिस पहचान नहीं पाएगी और दोनों पकड़ से बाहर रहेंगे. हत्या के समय अंसार बस में ड्यूटी पर था जो हनीफा को बचाने के लिए कत्ल का इलजाम अपने ऊपर ले कर पुलिस को गुमराह कर रहा था.

आरोपी यानी हत्यारे अब सलाखों के पीछे हैं. वंदना ने जमाने की परवाह न करते हुए एक शादीशुदा मर्द से प्यार कर उस के साथ ही जीने की जिद करने की गलती की थी तो हनीफा पैसों के लालच में आ कर पति का सौदा करने की चूक कर बैठी थी.

बाद में जब अंसार वंदना से शादी करने पर उतारू हो गया तो उस ने सौतन को ठिकाने लगा दिया. अंसार ने खूब मौज की हालांकि वह भूल गया था कि बीवीबच्चों के होते हुए एक कुंवारी लड़की से इश्क लड़ाना जुर्म नहीं पर गलत बात जरूर है.

Tags:
COMMENT