देश में भ्रष्टाचार खत्म करने का जितना शोर किया जा रहा है वह उतना ही तेजी से बढ रहा है. सरकारी विभाग, संस्थाएं भ्रष्टाचार के संगठित अड्डे बन गए हैं. खुद प्रधानमंत्री कार्यालय के अधीन सीबीआई के शीर्ष अधिकारी जांच के नाम पर भ्रष्टाचार का खेल खेल रहे हैं और करोड़ों के लेनदेन के खुलासे हो रहे हैं.

COMMENT