धर्म के नाम पर पहले लोगों को अपमानित, तिरस्कृत और बहिष्कृत करो, फिर धर्म के ही नाम पर, कीमत ले कर, तरहतरह की दलीलें दे कर गले लगाने का ड्रामा करो. धर्म का पैसा उगाहने और स्वार्थ साधने का यह पुराना फंडा है जिसे मर्यादा पुरुषोत्तम राम ने शूद्रों, किन्नरों, बंदरों, भालुओं और रीछों तक पर आजमाया था. और अब मशहूर कथावाचक मोरारी बापू ने अपने आराध्य के पदचिह्नों पर चलते वेश्याओं पर आजमा डाला.

Tags:
COMMENT