कोरोना काल में जब सभी आर्थिक तंगी से जूझ रहे हैं, किसी की नौकरी चली गयी है, किसी का व्यवसाय ठप्प हो गया है तो कहीं घर का कमाऊ व्यक्ति  ही कोरोना की भेंट चढ़ गया है. ऐसे में बच्चों की पढ़ाई और खर्चे को लेकर अधिकाँश माता पिता गहरे तनाव से गुज़र रहे हैं.

अर्जुन दिल्ली के स्प्रिंगडेल्स स्कूल में तीसरी का छात्र है. उसकी दो साल से ऑनलाइन पढ़ाई चल रही है. वह कभी क्लास करता है तो कभी माँ से नज़र बचा कर मोबाइल पर गेम्स खेलता रहता है. उसके ज्ञान में क्या वृद्धि हो रही है, शारीरिक और मानसिक विकास समुचित हो रहा है या नहीं, यह जानने में ना तो स्कूल के टीचर्स की दिलचस्पी है और ना माता पिता को इतनी समझ है कि कैसे पता करें. वो तो बस हर महीने स्कूल की फीस भरने में ही पस्त हुए जा रहे हैं. महीने की 15 तारीख बीतते ही अर्जुन की क्लास टीचर का फ़ोन आना शुरू हो जाता है कि आपने फीस नहीं जमा की.

ये भी पढ़ें- आर्केस्ट्रा ग्रुप में शामिल होने पर कैसी है कमाई

अर्जुन की माँ इसी बात का रोना रोती रहती है, कि पढ़ाई तो कुछ हो नहीं रही है, बस स्कूल वाले फीस लिए जा रहे हैं. ये कहानी करीब करीब हर उस घर की है जहाँ बच्चे पढ़ रहे हैं. अब दिल्ली सरकार के एक फैसले से इन परिवारों को कुछ राहत मिलने की उम्मीद है. दिल्ली के मुख्यमंत्री  अरविंद केजरीवाल सरकार ने सभी प्राइवेट स्कूलों को आदेश दिया है कि उन्हें अपनी फीस में 15% की कटौती करनी होगी. ये आदेश पिछले साल के शैक्षणिक सत्र यानी 2020-2021 के लिए लागू होगा. सरकार ने अपने आदेश में ये भी कहा है कि अगर स्कूलों ने पैरेंट्स से ज्यादा फीस ली है, तो उन्हें पैसे लौटाने होंगे या फिर आने वाले साल में एडजस्ट करना होगा. दिल्ली के 460 प्राइवेट स्कूलों की फीस में 15 फीसदी कटौती का आदेश कोरोना काल में आर्थिक तंगी झेल रहे अभिभावकों को राहत पहुंचाने की दिशा में बड़ा कदम माना जा रहा है.

साथ ही मिलेगी ये खास सौगात

  • 5000 से ज्यादा फैमिली और रोमांस की कहानियां
  • 2000 से ज्यादा क्राइम स्टोरीज
  • 300 से ज्यादा ऑडियो स्टोरीज
  • 50 से ज्यादा नई कहानियां हर महीने
  • एक्सेस ऑफ ई-मैगजीन
  • हेल्थ और ब्यूटी से जुड़ी सभी लेटेस्ट अपडेट
  • समाज और राजनीति से जुड़ी समसामयिक खबरें
Tags:
COMMENT