‘रेलगाड़ी छुक छुक छुक छुक छुक छुक....बीच वाली स्टेशन वोले रूक रूक रूक रूक रूक रूक...’ कई सालों पहले फल्म आशीर्वाद में अशोक कुमार ने यह गाना गाया था. बिहार में एक ऐसा गांव है, जिसके लोगों के जीवन की धड़कन रेलगाड़ी की छुक-छुक से जुड़ी हुई है. रेल और उस गांव के लोगों का लगाव और जुड़ाव ऐसा है कि दोनों एक दूसरे के बगैर अधूरा महसूस करते हैं. साल 1910 से गांव के हर घर का कोई न कोई लोग रेलवे में नौकरी करता आ रहा है. गांव का नाम है तेज पांडेपुर, लेकिन वह ‘रेल गांव’ के नाम से ज्यादा मशहूर है. बिहार के बक्सर जिला के रघुनाथपुर रेलवे स्टेशन से करीब 2 किलोमीटर की दूरी पर बसा है यह अनोखा गांव. इस गांव के लोग न खेती करते हैं, न गाय-भैंस पालते हैं, न ही किसी दूसरे महकमों में नौकरी करते हैं. 4 पीढ़ियों से समूचे गांव के लोगों के दिलों- दिमाग में रेल और सिर्फ रेल ही बसा है. हर नई पीढ़ी का बस एक ही ललक और सपना होता है- रेलवे में नौकरी.

COMMENT