सवाल

मैं 36 वर्षीय पुरुष हूं. मेरा 3 बार तलाक हो चुका है. पत्नी से एक भी बच्चा नहीं है. अब मैं शादी करना नहीं चाहता. इसीलिए मैं ने सरोगेसी से बच्चे करने के बारे में सोचा और ऐसा किया. पहले मेरे परिवार की तरफ से भी इस फैसले को ले कर कोई परेशानी नहीं थी, परंतु अब हुआ यों कि डाक्टर ने बताया कि सरोगेसी से मेरे एक नहीं, बल्कि 2 यानी जुड़वां बच्चे होने वाले हैं. इस पर मेरी बहन ने आपत्ति जताते हुए यह कहा कि मुझे दोनों में से एक बच्चा किसी को गोद दे देना चाहिए, जबकि मुझे और मेरे मातापिता को लगता है कि दोनों बच्चों की जिम्मेदारी और लालनपालन में कोई कमी नहीं होगी. मेरी बहन को लगता है यह असंभव है. मैं दुविधा में हूं कि क्या मुझे एक बच्चे को गोद दे देना चाहिए?

ये भी पढ़ें- मेरे बेटे अलग-अलग गानों पर नाचते हैं और वीडियो बनाते हैं उनकी इस आदत से परेशान हूं, मैं क्या करूं ?

जवाब

आप ने जब सरोगेसी का फैसला लिया तो क्या आप ने दीनदुनिया के विचारों पर आश्रित हो कर यह फैसला लिया था? आप और आप के मातापिता को यदि लगता है कि आप 2 बच्चों की जिम्मेदारी उठाने में सक्षम हैं तो आप को अपनी बहन का कहा नहीं सुनना चाहिए. आप खुद सोच कर देखिए, किसी भी पिता के लिए अपने बच्चे को गोद देना कोई आसान काम नहीं है. बच्चे एक हों या 2, आप के लिए तो दोनों ही समान हैं.

वैसे भी बच्चा गोद देना या लेना कोई बाएं हाथ का खेल नहीं है. फिर भी आप ऐसा सोचेंगे तो जरूरी  नहीं कि कोई गोद लेने लायक परिवार मिल ही जाए. देखा जाए तो यह तो अच्छी बात है कि आप के एक की जगह 2 बच्चे हो रहे हैं. दोनों को एकदूसरे का साथ मिल जाएगा. वे आप को परेशान भी नहीं किया करेंगे. और आप की गैरमौजूदगी में भी वे अकेलापन महसूस नहीं करेंगे.

ये भी पढ़ें- मेरे बेटे ने अपनी कंपनी में काम कर रही लड़की से शादी करने का फैसला कर लिया है, मैं क्या करूं?

Tags:
COMMENT