सवाल

हम निसंतान दंपती हैं. शादी हुए 8 साल हो गए हैं. मेरा 2 बार गर्भपात हो गया है. अब हम आईवीएफ से बच्चा करने की सोच रहे हैं. मैं ने सुना है कि आईवीएफ के बाद महिला को 9 महीने बैड रैस्ट करना पड़ता है. क्या वाकई ऐसा है? और वे बच्चे क्या नौर्मल बच्चों जैसे ही होते हैं?

जवाब

अफसोस की बात है कि शादी के 8 वर्षों बाद भी आप संतान सुख से वंचित हैं. आईवीएफ ट्रीटमैंट को ले कर लोगों के मन में बहुत सारी आशंकाएं हैं जबकि आईवीएफ ऐसी प्रक्रिया है जिस से संतान सुख की प्राप्ति कराई जाती है. आईवीएफ टैक्नोलौजी से पैदा हुए बच्चे प्राकृतिक गर्भधारण द्वारा जन्म लेने वाले बच्चों के समान ही होते हैं.

भ्रूण को भले ही लैब में तैयार किया जाता है, परंतु इस भ्रूण का विकास मां के गर्भ में ही पूरी तरह से प्राकृतिक रूप से होता है और इस में नौर्मल प्रैग्नैंसी द्वारा ही बच्चे का जन्म होता है.

जहां तक 9 महीने बैड रैस्ट की बात है, तो बता दें कि आईवीएफ की प्रक्रिया केवल गर्भधारण करने के लिए होती है. इस के बाद शेष आगे की प्रक्रिया पूरी तरह से नैचुरल ही होती है. जैसे डाक्टर सामान्य प्रैग्नैंसी में नियम व शर्तें बताते हैं वैसे ही आईवीएफ ट्रीटमैंट द्वारा गर्भधारण करने वाली महिला को वही शर्तें व नियम बताए जाते हैं.

ऐसा बिलकुल नहीं है कि जो महिलाएं आईवीएफ ट्रीटमैंट द्वारा गर्भधारण करती हैं उन को 9 महीने तक बैड रैस्ट करना पड़ता है. यदि किसी कारणवश डाक्टर आप को परामर्श देते हैं कि कुछ समय बैड रैस्ट करना है तो आप जरूर करें. यह सलाह तो सामान्य गर्भधारण करने वाली महिला को भी डाक्टर देते हैं.

आगे की कहानी पढ़ने के लिए सब्सक्राइब करें

डिजिटल

(1 साल)
USD10
सब्सक्राइब करें

डिजिटल + 24 प्रिंट मैगजीन

(1 साल)
USD79
सब्सक्राइब करें
और कहानियां पढ़ने के लिए क्लिक करें...